आगरा : नौकरी का लालच दे करते थे आदिवासी इलाकों से युवतियों की तस्करी, 11 अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Sun, 7th Feb 2021, 6:03 PM IST
  • आगरा पुलिस द्वारा मानव तस्करी करने वाले 11 सदस्यों को गिरफ्तार करने का मामला सामने आया है. इसके साथ ही पुलिस ने युवतियों को भी मानव तस्करों के पास से मुक्त करा लिया है. पुलिस की जांच में सामने आया है कि गैंग शादी कराने के लिए आदिवासी क्षेत्रों से युवतियों को शादी कराने के लिए लेकर आा है.
आरपीएफ ने छापा मार पकड़ा मानव तस्करी गिरोह

आगरा. आगरा पुलिस द्वारा मानव तस्करी करने वाले 11 सदस्यों को गिरफ्तार करने का मामला सामने आया है. इसके साथ ही पुलिस ने युवतियों को भी मानव तस्करों के पास से मुक्त करा लिया है. पुलिस की जांच में सामने आया है कि गैंग शादी कराने के लिए आदिवासी क्षेत्रों से युवतियों को शादी कराने के लिए लेकर आा है. वहीं, करीब एक लाख रुपये में उनका सौदा कर दिया जाता है. बताया जा रहा है कि दिल्ली की रेस्क्यू फाउंडेशन और मिशन मुक्ति फाउंडेशन की टीम की सूचना के आधार पर पुलिस ने मानव तस्करों को गिरफ्तार किया था.

इस बारे में बात करते हुए एसपी देहात पूर्वी वेंकट अशोक ने बताया कि दिल्ली की मिशन मुक्ति संस्था के निदेशक वीरेंद्र कुमार सिंह और उनकी टीम को मानव तस्करों के बारे में यह सूचना मिली थी कि सोनभद्र, झारखंड और मध्यप्रेश से तीन युवतियों को बेचने के लिए आगरा लाया जा रहा है. उनकी जबरन शादी भी कराई जाएगी. मामले की सूचना पाते ही थाना बसई अरेला पुलिस ने चौाकी अरनौटा पर चेकिंग शुरू कर दी.

आगरा में टप्पेबाजों का शिकार हुआ युवक, नकली सोने के कुंडल थमाकर लूट लिया मोबाइल

पुलिस ने चेकिंग के दौरान ही दो बोलेरो को रोका. उन गाड़ियों में कुल 11 लोग बैठे हुए थे. गाड़ी में सोनभद्र, झाखंड के जिला गढवा और मध्यप्रदेश के जिले सिगरौली की तीन युवतियां उसमें बैठी हुई थीं. एसपी देहात ने इस बारे में बताया कि सोनभद्र का गैंग गरीब परिवार और आदिवासियों की युवतियों की तस्करी करता था. इस काम के लिए गैंग तीन तरह के तरीके अपनाया करते थे. वह युवतियों को आर्केस्ट्रा में काम का लालच देती थीं. इसके बाद गैंग का सरगना युवतियों को लेकर आता था और युवतियों की शादी कराता था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें