आगरा में खुला विजिलेंस थाना, रिश्वत मांगने वालों की होंगी शिकायतें दर्ज

Smart News Team, Last updated: 11/08/2020 12:22 PM IST
  • आगरा में विजिलेंस थाना खुला है. इसमें भ्रष्ट और रिश्वत मांगने वालों की शिकायतें दर्ज होंगी. विजिलेंस विभाग का कहना है कि रिश्वत देना भी अपराध है. शिकायत दर्ज करवाने के लिए लोगों को एक हेल्पलाइन नंबर भी दिया जाएगा.
आगरा में खुला विजिलेंस थाना, रिश्वत मांगने वालों की होंगी शिकायतें दर्ज

विजिलेंस विभाग ने आगरा में विजिलेंस थाना खोला है. इसके तहत रिश्वत मांगने वाले और भ्रष्ट कर्मचारियों के खिलाफ शिकायत की जाएगी. विजिलेंस विभाग के अधिकारी ने कहा कि, रिश्वत मांगना ही नहीं रिश्वत देना भी अपराध है. कोई सरकारी अधिकारी या कर्मचारी रिश्वत मांगता है तो विजिलेंस में शिकायत करें. भ्रष्टाचारी को रंगे हाथ गिरफ्तार कराएं. विभाग ने कहा पीड़ित लोग विजिलेंस के हेल्पलाइन नंबर पर रिश्वत मांगने की शिकायत दर्ज कराएं. सोमवार को आगरा पहुंचे 

डीजी विजिलेंस पीवी रामाशास्त्री ने आम जनता से यह आग्रह किया. वह यहां समीक्षा बैठक करने आए थे. सुबह 10:15 बजे डीजी विजिलेंस क्षेत्रीय सतर्कता अधिष्ठान कार्यालय पहुंचे. उन्होंने क्षेत्रीय कार्यालय में खुले विजिलेंस थाने का भी निरीक्षण किया. वर्तमान में आगरा-अलीगढ़ मंडल में आने वाले आठ जिलों के विभिन्न विभागों के भ्रष्टाचार के मामलों की 46 शिकायतें हैं. जिनकी बंद और गोपनीय जांच चल रही है. डीजी विजिलेंस ने इन जांचों की प्रगति की समीक्षा की.

आगरा: कान्हा जन्म पर नहीं खुलेंगे जेल के दरवाजे, ना सजेगा मंदिर ना बंटेगा प्रसाद

उन्होंने विवेचकों से जाना उन्होंने अभी तक क्या साक्ष्य जुटाए हैं. उन्होंने साक्ष्य संकलन में आने वाली दिक्कतों के बारे में भी पूछा. अधीनस्थों ने डीजी को बताया कि कुछ विभागों द्वारा समय पर दस्तावेज उपलब्ध नहीं कराए जाते. जिससे जांच पूरी करने में समय अधिक लग जाता है. एक-एक कागज लिखापढ़ी में लेना पड़ता है.

आगरा की अस्थायी जेल से फरार आरोपी कोरोना पॉजिटिव, पुलिस ने शुरू की तलाश

इस पर डीजी ने संबंधित विभागों के उच्च अधिकारियों से पत्राचार करने के निर्देश दिए. डीजी विजिलेंस करीब पांच घंटे तक कार्यालय में रहे. इस दौरान उन्होंने प्रत्येक विवेचक को बुलाकर उसके द्वारा की जा रही जांच की प्रगति के बारे में जानकारी ली. आगरा विजिलेंस कार्यालय में एक सीओ और 11 निरीक्षक तैनात हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें