पारस अस्पताल वायरल वीडियो: 5 मिनट ऑक्सीजन बंद मॉक ड्रिल, 22 मरीजों की छंटनी

Smart News Team, Last updated: Tue, 8th Jun 2021, 12:22 AM IST
  • आगरा के पारस अस्पताल के एक वीडियो से हड़कंप मच गया है. जिसमें वे ऑक्सीजन की कमी होने की वजह से मरीजों की छंटनी की बात कह रहे हैं. जिलाधिकारी ने कहा कि वायरल में बताई 22 मौतों की जानकारी गलत है. उन दो दिनों में कोविड से सिर्फ 7 ही मौतें हुईं थीं.
आगरा के पारस अस्पताल के पुराने वीडियो से खलबली मच गई है. (फोटो- स्क्रीनशाॅट वीडियो)

आगरा. उत्तर प्रदेश के आगरा में पारस अस्पताल की बताए जा रहे एक वायरल वीडियो ने खलबली मचा दी है. कहा जा रहा है कि वीडियो में पारस अस्पताल के संचालक और डॉक्टर अरिंजय जैन ऑक्सीजन की कमी के चलते 5 मिनट की मॉक ड्रिल के आधार पर 22 कोविड मरीजों की छंटनी करने की बात कह रहे हैं. वीडियो तेजी से सोशल मीडिया पर फैल रहा है. आगरा डीएम प्रभु एन सिंह ने भी इस मामले में बयान दिया है.

वीडियो में कही जा रही बातों को लेकर आगरा डीएम प्रभु नारायण सिंह ने बताया कि 26 और 27 अप्रैल को पारस अस्पताल में सिर्फ 7 कोरोना मरीजों की मौत हुई थी. इन दो दिनों में ऑक्सीजन की कमी थी लेकिन मथुरा रिफाइनरी से ऑक्सीजन आपूर्ति के होने से हालत सामान्य हो गई थी. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन की कमी से पास अस्पताल में मौतें नहीं हुईं. वायरल वीडियो में 22 मरीजों की मौत गलत है.

आगरा में प्रमाण पत्रों की जांच में तेजी, रिपोर्ट के आधार पर होगा फैसला

जिलाधिकारी ने कहा कि वीडियो की स्टडी की जाएगी और मजिस्ट्रेटी जांच कराई जाएगी. कोई गलती पाई गई तो कार्रवाई होगी. वायरल वीडियो में पारस अस्पताल के डॉ. अरिंजय जैन कुछ लोगों को कह रहे हैं कि आगरा में ऑक्सीजन के सबसे बड़े सप्लायर ने बताया सुबह तक का ही ऑक्सीजन है इसलिए मरीजों को डिस्चार्ज करना शुरू करो.

बता दें कि वायरल वीडियो में पहले ऑक्सीजन की कमी की बात हो रही है और अस्पताल में कम ऑक्सीजन में कैसे काम चलाएं उसका जिक्र भी कर रहे हैं. जिसके बाद डॉक्टर ये भी कहते हुए सुनाई दे रहे हैं कि पांच मिनट की मॉक ड्रिल में 22 मरीजों की छंटनी हो गई.  

दिवाली तक देश के 80 करोड़ से ज्यादा लोगों को हर महीने फ्री अनाज देगी मोदी सरकार

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें