कोरोना काल में कैसे होगा ताज का दीदार? ताजमहल खोलने पर माथापच्ची जारी, जानें वजह

Smart News Team, Last updated: Sat, 4th Jul 2020, 7:08 PM IST
  • आगरा में ताजमहल सहित अन्य दो विश्व प्रसिद्ध स्मारकों को खोले जाने पर अभी सहमति नहीं बन सकी है। एएसआई द्वारा छह जुलाई से खोले जाने के निर्देश के बाद जारी की गई गाइडलाइन पर अब भी मंथन जारी है।
ताजमहल के खुलने पर नहीं बन पाई है सहमति।

आगरा में ताजमहल सहित अन्य दो विश्व प्रसिद्ध स्मारकों को खोले जाने पर अभी सहमति नहीं बन सकी है। एएसआई द्वारा छह जुलाई से खोले जाने के निर्देश के बाद जारी की गई गाइडलाइन पर अब भी मंथन जारी है। ताजमहल को खोलने पर ऊहापोह की स्थिति इसलिए भी है कि ताज देखने आने वाले सैलानियों में सबसे ज्यादा दिल्ली से होते हुए आते हैं और वहां सबसे ज्यादा कोरोना का संक्रमण फैला है। इसके अलावा, ताजमहल के आसपास कोरोना कंटेनमेंट जोन भी दिक्कत कर रहे हैं।

दीदार के लिए और करना होगा इंतजार? क्योंकि ताजमहल के खुलने पर फंस गया है यह पेच

ताजमहल, आगरा किला और फतेहपुरसीकरी को खोलने के पीछे एएसआई का मत है कि धीरे-धीरे सैलानियों की संख्या बढ़ेगी। लोगों का जब आना-जाना शुरू होगा तो सब कुछ सामान्य चलने लगेगा। पर्यटन उद्योग को भी राहत मिलेगी। वहीं आगरा के परिप्रेक्ष्य में देखा जाए तो यहां स्थितियां ज्यादा अच्छी नहीं हैं। लगातार संक्रमितों की संख्या में इजाफा होने के कारण कंटेनमेंट जोनों की संख्या बढ़ रही है। कोरोना से मौतों का सिलसिला भी थम नहीं रहा है।

केंद्रीय पर्यटन मंत्री के ट्वीट करने के बाद एएसआई ने भले ही गाइड लाइन जारी कर दी हो, लेकिन प्रशासन अभी खोले जाने के ही पक्ष में नहीं दिख रहा है। जिला प्रशासन की प्राथमिकता कोरोना संक्रमण को रोकने की है। हालांकि अभी अधिकारी इसी को लेकर मंथन में जुटे हुए हैं कि क्या ताज को खोले जाने से आने वाले सैलानियों या उनके कारण किसी को कोई दिक्कत तो नहीं हेगी।

जिला प्रशासन का मानना है कि अभी ट्रेन चल नहीं रहीं हैं। फ्लाइट भी नहीं आ रही हैं। ऐसे में पर्यटक आएगा भी तो कैसे। दूसरी बात ये है कि ताज देखने आने वाले सैलानियों में 80 फीसदी संख्या दिल्ली होकर आने वालों की होती है। वहां की स्थिति बहुत खराब है। नोएडा की भी यही हालत है। जयपुर से जो फ्लाइट चार दिनों के लिए आ रही है उसमें भी संख्या काफी कम है।

जिलाधिकारी प्रभु एन सिंह के मुताबिक, 'अभी हम तय कर रहे हैं कि ताजमहल खोला जाए कि नहीं। केंद्र सरकार से खोलने की अनुमति तो मिल गई है, लेकिन यहां की परिस्थितयों को पहले देखा जा रहा है। मेरे हिसाब से अभी परिस्थितियां पूरी तरह से अनुकूल नहीं दिख रहीं हैं।'

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें