कोरोना के शक में युवती को बस से उतारने का मामला, महिला आयोग का एसएसपी को नोटिस

Smart News Team, Last updated: 15/07/2020 02:13 PM IST
  • बस से उतारे जाने के बाद युवती की हुई थी मौत, पुलिस ने मामले में नहीं दर्ज की थी प्राथमिकी
प्रतीकात्मक तस्वीर 

आगरा. दिल्ली से रोडवेज बस से शिकोहाबाद आ रही एक महिला की तबीयत बिगड़ने के बाद कोरोना के शक में बस के स्टॉफ ने बीच रास्ते में यमुना एक्सप्रेस वे पर उतार दिया था। महिला की कुछ देर बाद ही मौत हो गई थी। अब इस मामले में महिला आयोग ने एसएसपी को नोटिस भेजा है और मामले की जांच कर कार्रवाई करने के निर्देश दिये हैं।

बता दें कि 15 जून को शिकोहाबाद निवासी अंशिका मां सर्वेश देवी के साथ एक्सप्रेस वे से बस में बैठ कर नोएडा से शिकोहाबाद जा रही थी, बस में अचानक उसकी तबीयत खराब हो गई। कोरोना के शक में मथुरा बस डिपो के स्टॉफ ने उसे यमुना एक्सप्रेस वे पर उतार दिया।

सेना भर्ती के लिए बनाता था फर्जी दस्तावेज, बन चुका करोड़ों का मालिक, गिरफ्तार

अंशिका के भाई शिवकुमार ने आरोप लगाया था कि दहशत से उसे दिल का दौरा पड़ गया और वहीं सड़क पर पैदल चलते हुए उसकी मौत हो गई। शिवकुमार ने इस संबंध में थाने में प्राथमिकी दर्ज करानी चाही तो उसकी प्राथमिकी भी दर्ज नहीं की गई। पुलिस ने पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में हर्ट अटैक की बात कही, जबकि शिव कुमार बस स्टॉफ की लापरवाही को जिम्मेदार बताता रहा।

आगरा में हैवानियत की हद पार, सौतेली बेटी से कलयुगी पिता ने किया छेड़छाड़…

वहीं घटना के लगभग एक महीने के बाद महिला आयोग ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लिया है। आयोग की उपाध्यक्ष डॉ.सुषमा सिंह और सदस्य डा.निर्मला दीक्षित ने आगरा एसएसपी को नोटिस भेजा है और मामले की जांच कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारी महिलाओं की सुरक्षा को प्राथमिकता दें।

अन्य खबरें