आगरा में कारोबारी से 43 लाख छीनने के केस में दो और अफसरों पर गाज,अबतक 6 सस्पेंड

Smart News Team, Last updated: Wed, 19th May 2021, 12:10 AM IST
  • आगरा सचल दल इकाई के ऊपर जांच के दौरान आगरा के व्यापारी प्रदीप कुमार अग्रवाल से 43 लाख रुपये छीने जाने का आरोप लगाया गया है. व्यापारी द्वारा इसकी शिकायत किए जाने पर जांच होने के बाद से दो और अधिकारियों को निलंबित किया गया.
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (फाइल फोटो)

आगरा। उत्तर प्रदेश में वाणिज्य कर विभाग के दो और अधिकारियों के आगरा के एक व्यापारी से 43 लाख रुपये छीने जाने के मामले में शामिल होने की बात सामने आई है. जिसके चलते राज्य सरकार ने वाणिज्य कर विभाग के दो और अधिकारियों एडीशनल कमिश्नर ग्रेड-दो एसआईबी डीएन सिंह व ज्वांइट कमिश्नर एसआईबी अभिषेक श्रीवास्तव को निलंबित कर दिया है. मंगलवार को अपर मुख्य सचिव वाणिज्य कर संजीव मित्तल ने इस संबंध में आदेश जारी किया. गौरतलबहै कि इस मामले में सरकार द्वारा पहले भी चार लोगों को निलंबित कि या जा चुका है.

जानकारी के अनुसार आगरा सचल दल इकाई के ऊपर जांच के दौरान आगरा के व्यापारी प्रदीप कुमार अग्रवाल से 43 लाख रुपये छीने जाने का आरोप लगाया गया है. व्यापारी द्वारा इसकी शिकायत किए जाने पर जांच होने के बाद तत्काल प्रभाव से असिस्टेंट कमिश्नर अजय कुमार, वाणिज्य कर अधिकारी शैलेंद्र कुमार, सिपाही संजीव कुमार और गाड़ी चालक दिनेश कुमार को निलंबित किया गया और उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया. अजय कुमार को मिर्जापुर शैलेंद्र कुमार को बांदा से संबद्ध किया गया है.

आगरा में चालान के नाम पर व्यापारी के साथ की अभद्रता, 5 सिपाही हुए लाइन हाजिर

वाणिज्य कर विभाग के अपर मुख्य सचिव ने इस मामले के संबंध में दो और वरिष्ठ अधिकारियों को निलंबित किया है. निलंबित हुए ज्वाइंट कमिश्नर एसआईबी अभिषेक श्रीवास्तव आगरा पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने नियंत्रक एवं पर्यवेक्षणीय अधिकारी के रूप में अपने दायित्वों का सम्यक निर्वहन ठीक से नहीं किया. यही कारण है कि उन्हें लापरवाही बरतने पर निलंबित किया गया है. ज्वाइंट कमिश्नर एसआईबी अभिषेक के खिलाफ अपर आयुक्त प्रदीप कुमार वाराणसी को जांच अधिकारी नामित किया गया है. अभिषेक निलंबन अवधि में वाणिज्य कर कार्यालय गाजियाबाद से संबद्ध रहेंगे.

आगरा में शराब की दुकानों को खोलने की बढ़ी समय सीमा, जारी हुए नए निर्देश

वहीं निलंबित होने वाले अन्य अधिकारी एडीशनल कमिश्नर ग्रेड-दो एसआईवी वाणिज्य कर आगरा डीएन सिंह पर आरोप लगाया गया है कि उन्होंने अपने अधीन कार्यरत तत्कालीन असिस्टेंट कमिश्नर को मनमानी करने की छूट दी है जिसके कारण विभाग की छवि धूमिल हुई है. इसलिए उन्हें निलंबत करते हुए एडीशनल कमिश्नर ग्रेड-एक वाणिज्य कर उच्च न्यायालय कार्य प्रयागराज से संबद्ध किया गया है. डीएन सिंह के खिलाफ भी प्रदीप कुमार को जांच अधिकारी नामित किया गया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें