बिना लाइसेंस के चल रहे मेडिकल स्टोर से 100 रुपये का इंजेक्शन बिक रहा है 500 में

Smart News Team, Last updated: Wed, 30th Sep 2020, 3:29 PM IST
  • आगरा के हास्पिटल में बिना लाइसेंस के चलता मिला मेडिकल स्टोर. 20 हजार की दवाएं हुई जब्त. हास्पिटल संचालक को नोटिस दिया है. लाइसेंस और बिल उपलब्ध न कराने पर मुकदमा दर्ज होगा.
प्रतीकात्मक तस्वीर

आगरा। औषधि विभाग की टीम ने शिकायत के बाद आगरा के बोदला- सिकंदरा रोड पर चल रहे एक हास्पिटल में बिना लाइसेंस के चल रहे मेडिकल स्टोर से 100 रुपये का इंजेक्शन 500 रुपये में बेचने पर छापा मारा है. यहां से 20 हजार रुपये की दवाएं जब्त की हैं. हास्पिटल संचालक को नोटिस दिया है. लाइसेंस और बिल उपलब्ध न कराने पर मुकदमा दर्ज कराया जाएगा.

इस दौरान औषधि निरीक्षक राजकुमार शर्मा ने बताया कि हास्पिटल में भर्ती मरीज के तीमारदार द्वारा 100 रुपये के इंजेक्शन को 500 रुपये में बेचने की शिकायत पर बोदला सिकंदरा रोड पर संचालित हॉस्पिटल पर छापा मारा. यहां प्रथम तल पर बिना नाम का मेडिकल स्टोर मिला.

हास्पिटल संचालक मेडिकल स्टोर का लाइसेंस नहीं दिखा सके. दवाओं के बिल नहीं दिए जा रहे थे. मेडिकल स्टोर से एंटीबायोटिक इंजेक्शन. हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ाने के इंजेक्शन सहित प्रसव कराने के लिए इस्तेमाल होने वाली करीब 20 हजार रुपये की दवाएं मिलीं जिन्हें जब्त कर लिया गया है.

नितिन दास सुसाइड केस में पत्नी और ससुर अरेस्ट, 13 पेज के सुसाइड नोट पर कार्रवाई

आपको बतादें के हास्पिटल में बिना लाइसेंस के मेडिकल स्टोर लगातार रेट में मनमानी कर रहे है. स्वास्थ्य विभाग में 450 हास्पिटल पंजीकृत हैं. इनमें से तमाम अस्पतालों में बिना लाइसेंस के मेडिकल स्टोर चल रहे हैं इन अस्पतालों में एमआरपी पर सर्जिकल आइटम और इंजेक्शन दिए जा रहे हैं. जबकि बाजार में यह 20 से 40 % तक कम रेट पर उपलब्ध हो जाते है.

कोरोना संक्रमण में पिछले दो महीने में दवाओं के रेट 10 % तक बढ़ गए हैं. सर्दी-जुकाम से लेकर सामान्य बीमारियों में इस्तेमाल होने वाली दवाएं महंगी हो गई हैं. वहीं होम्योपैथी और आयुर्वेदिक दवाओं के रेट भी बढ़ गए हैं.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें