आगरा: नाइजिरियन गिरोह का पर्दाफाश, 3 साल में कर चुके हैं करीब दो सौ करोड़ की ठगी

Smart News Team, Last updated: 16/08/2020 09:20 AM IST
  • स्टूडेंट वीजा पर भारत आने वाले नाइजीरियाई युवक करते थे धोखाधड़ी. साइबर क्राइम से तीन साल में की करोड़ों की कमाई . सिर्फ पैसे वाले लोगों को बनाते थे अपना निशाना. हनी ट्रैपिंग की वारदातों को भी देते थे अंजाम.
आगरा: नाइजिरियन गिरोह का पर्दाफाश, 3 साल में कर चुके हैं करीब दो सौ करोड़ की ठगी

आगरा. शुक्रवार को करोड़ों की धोखाधड़ी कर चुके नाइजीरियन गिरोह के आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया . इस गिरोह के बेंशन नाम के अपराधी ने पुलिस को बताया कि वो न तो किसी के यहाँ डाका डालते हैं और न ही अपहरण करते हैं सिर्फ कमरे के अंदर बैठे बैठे पिछले तीन साल में करीब दो सौ करोड़ रुपये कमा चुके हैं . गुड्सटाइम संडे उर्फ बिंशन जोकि एक नाइजीरियन उसके साथ तीन और अपराधियों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

पूरे घटनाक्रम की जानकारी विस्तार से देते हुए आइजी रेंज ए गणेश ने कहा कि “ दिल्ली दिल्ली, गुड़गांव, फरीदाबाद और नोएडा में काफी बड़ी संख्या में नाइजीरियन युवक रहते हैं .लगभग सभी स्टूडेंट वीजा पर भारत आते हैं . पहले यहां पढ़ाई करते हैं . उसके बाद नाइजीरिया के इन लोगों के संपर्क में आ जाते हैं जो हैकर्स हैं. भारत में रहकर लोगों से ठगी करते हैं. इनकी रणनीति के तहत गैंग का कोई भी सदस्य पांच-छह साल से ज्यादा भारत में नहीं रहता है और भारी मात्रा में पैसा कमाकर वापस अपने नाइजीरिया लौट जाता है. रेंज साइबर थाना पुलिस ने इसी गैंग के चार सदस्यों को जेल भेजा है। आरोपियों में एक आरोपी नाइजीरियन है.”

आगरा: फर्जी निकला नशीली दवा के सौदागर का पता, होगी सख्त कार्रवाई

पुलिस द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार गिरफ्तार किया गया गुड्सटाइम संडे उर्फ बेंशन अनपढ़ नहीं है . वे झारखंड के साइबर अपराधियों की तरह नहीं है. ये काफी मंझा हुआ ग्राफिक्स इंजीनियर है किसी भी वेबसाइट को एक बार देखने के बाद ठीक उसके जैसी दूसरी वेबसाइट बना देता है. साथ ही उसे गूगल पर अपलोड भी कर देता है. कंपनी की साइट हैक करके ऑनलाइन शॉपिंग करने वालों का डाटा चोरी कर लेता है . बेंशन के पास मिले लैपटॉप में लगभग ढाई लाख से अधिक मोबाइल नंबर भी मिले हैं. यह गिरोह झारखंड के साइबर अपराधियों की तरह किसी को भी नहीं ठगता है बल्कि किसी को भी शिकार बनाने से पहले उसके बारे में ऑनलाइन पूरी जानकारी जुटाते हैं. सोशल मीडिया और पैन कार्ड की जानकारी से उस व्यक्ति की आर्थिक स्थिति के बारे में पूरी तहकीकात करते हैं .

आगरा: मामा के नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर भांजे को ही लूट लिया

आइजी ए गणेश ने इस गिरोह द्वारा हनी ट्रैपिंग करने की भी जानकारी दी. ये सोशल मीडिया पर करीब 40 साल के युवकों से विदेशी महिला बनकर बात करते थे . फर्जी सोशल मीडिया एकाउंट बनाकर उसमें सुंदर लड़कियों की तस्वीरें डालते थे. जिसे युवक फंस कर बड़े धोखे का शिकार हो जाते थे . बेंशन ने ऐसी कई वारदातों की जानकारी पुलिस को दी है.

 

अन्य खबरें