कृष्ण जन्मभूमि पर धूमधाम से मनी जन्माष्टमी, कोरोना काल में भक्तों के बिना आरती

Smart News Team, Last updated: 12/08/2020 03:49 PM IST
  • श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव की धूम पूरे देश में है. कोरोना काल में बिना भक्तों के कृष्ण जन्मभूमि के मंदिरों में आरती और अभिषेक हुआ.
मथुरा में बिना भक्तों के जन्माष्टमी का उत्सव मनाया गया.

आगरा मंडल. ब्रज भूमि में श्रीकृष्ण जनमाष्टमी की धूम है. प्रभु नंद के गांव में आधी रात को बाल कृष्ण का जन्म हुआ. वहीं राधा के गांव बरसाने में भी बधाइयां गूंजी. मथुरा में कृष्ण जन्मस्थान पर भगवान के जन्मोत्सव की धूम शुरू हो गई थी. 

कोरोना काल के कारण जन्मोत्सव पहली बार बिना भक्तों के मनाया जा रहा है. ब्रज के मंदिरों में संतो और सेवादारों की ही मौजूदगी में परंपराएं पूरी की जाएंगी. प्रशासन ने कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंदिर में भक्तों के प्रवेश को प्रतिबंधित किया है.

मथुरा में श्रीकृष्ण के जन्मस्थान पर बुधवार मुख्य कार्यक्रम में राधा-कृष्ण की पूजा की गई. इस कार्यक्रम में सिर्फ पूजा कराने वाले आचार्य के साथ समिति के कुछ ही सदस्य शामिल हुए थे. जिन्होनें कोरोना रोकथाम की गाइडलाइंस का पालन किया. 

जनमाष्टमी से पहले सील हुआ इस्कॉन मंदिर, 3 पुजारी समेत 22 निकले कोरोना संक्रमित

कृष्ण जन्मस्थान पर होने वाले जन्मोत्सव के लाइव दर्शन श्रद्धालु टेलीविजन और सोशल मीडिया के माध्यम से कर सकेंगे. वहीं कृष्ण भगवान पत्र-पुष्प, रत्न प्रतिकृति, वस्त्र आदि के अद्भुत संयोजन से बनाए कुंज बंगले में विराजित हुए हैं. 

साइबर चोर ने फौजी बनकर लगाया मेकअप आर्टिस्ट को एक लाख रुपये का चूना

कृष्ण जन्मभूमि सेवा संस्थान के सचिव कपिल शर्मा ने कहा कि श्रीकृष्ण की पोशाक रेशम, जरी और रत्नों से बनाई गई है. सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए राधा-कृष्ण की आरती में सभी लीन हुए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें