Akshaya Tritiya: आज है अक्षय तृतीया, जानिए इस दिन का महत्व और पूजा का सही समय

Smart News Team, Last updated: Fri, 14th May 2021, 2:03 PM IST
  • अक्षर तृतीया का हमारे जीवन में गहरा महत्व होता है. इस दिन को त्रैता युग का शुरूआती दिन भी माना जाता है. इस दिन नारायण के साथ लक्ष्मी जी की भी पूजा की जाती है.
अक्षर तृतीया के दिन जाने कैसे पूजा, जीवन में महत्व, क्या करने होगा परिवार को लाभ.

देशभर में आज अक्षय तृतीया( Akshaya Tritiya ) का त्यौहार मनाया जा रहा है. सनातन धर्म में इस दिन का काफी महत्व होता है. मान्यताओ के अनुसार, इस दिन को त्रेता युग की शुरुआत का दिन भी माना जाता है. अक्षय तृतीया के दिन माता लक्ष्मी और नारायण की पूजा की जाती है. मान्यताओं के अनुसार, इस दिन को आखा तीज के नाम से भी जाना जाता है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन नया कार्य करने से सफलता जरूर मिलती है.

अक्षर तृतीया का दिन और पूजा का समय

भविष्य बनाओ ज्योतिष एवं वास्तु संस्थान, आगरा के निदेशक ज्योतिषाचार्य डॉ. अरविंद मिश्र ने बताया कि इस दिन दान करने से का नाश न होने वाला पुण्य प्राप्त होता है. साथ इसके करने से पितरों का आशीर्वाद भी प्राप्त होता है. उन्होंने अक्षर तृतीया का प्रारंभ 14 मई, 2021 सुबह 05ः38 से 15 मई, 2021 सुबह 07ः59 तक का बताया है. साथ ही पूजा का सुभ मुहुर्त सुबह 5ः38 से दोपहर 12ः18 बजे तक का है.

आगरा आज का राशिफल 14 मई: वृश्चिक राशि वालों की आज प्रेम प्रसंग में आएगी निकटता, धन की होगी प्राप्ति

अक्षर तृतीया का महत्व

मान्यता है कि इस दिन भगवान विष्णु के छठे अवतार श्री परशुराम का जन्म हुआ था. इसके अलावा इस दिन को सतयुग का अंतिम दिन भी माना जाता है. इसके अलावा मान्यता है कि वेद व्यास एवं श्रीगणेश द्वारा महाभारत लेखन अक्षर तृतीया के दिन ही शुरू हुआ था. साथ ही यह महाभारत की समाप्ति का भी दिन था.

आगरा आज का राशिफल 13 मई: कन्या राशि वाले करेंगे गंभीर रोग पर विजय प्राप्त

अक्षर तृतीया के दिन दिया जाता है दान

अक्षय तृतीया के त्यौहार को बसंत ऋतु के समाप्ति और ग्रीष्म ऋतु का शुरु हो वाली तारीख को मनाया जाता है इसलिए इस दिन जल से भरे घड़े, पंखे, छाता, चावल, खरबूजा, तरबूज, ककड़ी, खीरा, चीनी, साग, शरबत और सत्तू आदि गर्मी से राहत देने वाली चीजों का दान करना शुभ माना जाता है. ऐसे भी माना जाता है कि इस दिन दान करने से सुख की प्राप्ति होती है. साथ ही इस दिन सोना-चादी का भी अपना एक महत्व होता है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें