आगरा में चंबल नदी के किनारे धूप सेंकने निकले घड़ियाल, पर्यटकों को पसंद आया नजारा

Smart News Team, Last updated: 06/12/2020 06:46 PM IST
  • सर्दी के मौसम में धूंप सेकने के लिए इन दिनों चंबल नदी के किनारे घड़ियाल निकलने लगे हैं. घड़ियालों का यह नजारा देखने के लिए देशी के साथ-साथ विदेशी पर्यटक भी चंबल में पहुंच रहे हैं.
फाइल फोटो

आगरा: सर्दी के मौसम में हर किसी को धूप काफी प्यारी होती है. इंसान भी सर्दी से राहत पाने के लिए धूप सेंकते हैं. वहीं, जानवर भी सर्दी से राहत पाने के लिए धूप सेंकते हुए नजर आए. दरअसल, सर्दी के मौसम में धूंप सेकने के लिए इन दिनों चंबल नदी के किनारे घड़ियाल निकलने लगे हैं. घड़ियालों का यह नजारा देखने के लिए देशी के साथ-साथ विदेशी पर्यटक भी चंबल में पहुंच रहे हैं. बताया जा रहा है कि पहले दिन चंबल में काफी घड़ियाल और मगरमच्छ देखने को मिले.

चंबल की बाह में इटावा रेंज में घड़ियालों के अलावा जलीय जीव और पक्षी भी देखने को मिले. लेकिन डॉल्फिन सिर्फ डीप पूल में ही गोते लगाती नजर आई. दूसरी और घड़ियालों के बारे में बात करते हुए बाह के रेंजर आरके सिंह राठौड़ ने बताया कि जीवों की गणना के लिए मोटर बोट को नदी में उतारा गया. इस दौरान टीमों को नदी में जलक्रीड़ा करते और धूप सेंकते हुए किनारे घड़ियाल, मगरमच्छ और कछुए खूब दिखे, लेकिन डॉल्फिन की संख्या कम नजर आई.

किसान ने नहर में कूदकर दी जान, बैंक ने कर्ज जमा करने का बनाया था दबाव

बता दें कि चंबल नदी में घड़ियाल और मगरमच्छ का संरक्षण किया जा रहा है जिसे देखने के लिए देसी और विदेशी सैलानी भी यहां आते हैं. वहीं, इन दिनों तो ठंड से राहत पाने के लिए घड़ियाल नदी किनारे धूप सेंकने के लिए आते हैं. ऐसे में उनकी गतिविधियां देखने के लिए रोजाना पर्यटकों की भीड़ जुटती है. रिपोर्ट के मुताबिक चंबल सेंक्चुअरी में साल 2008 में 100 से ज्यादा घड़ियालों की मौत हो गई थी, जिसे लेकर हर साल सर्दी में उनकी गिनती होती है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें