Ganesh Chaturthi: गणेश चतुर्थी 2021 की तारीख, शुभ मुहूर्त समय और पूजा विधि

Anuradha Raj, Last updated: Mon, 6th Sep 2021, 4:50 PM IST
  • गणेश चतुर्थी का त्योहार हिंदू धर्म में बहुत ही धूम-धाम से मनाया जाता है. ये त्योहार विघ्नहर्ता और सभी देवताओं में प्रधम स्थान पर पूजे जाने वाले गणपति की होती है. 
इस दिन है गणेश चतुर्थी

भाद्रपद मास में जो शुक्ल पक्ष पड़ता है उसकी चतुर्थी तिथि को घणनेश चतुर्थी का त्योहार मनाया जाता है. हिंदू धर्म में इस त्योहार की विशेष मान्यता होती है. गणेशजी की पूजा सभी देवताओं में सबसे पहले की जाती है. कोई भी शुभ काम हो या कोई नया काम किया हो तो सबसे पहले विघ्नहर्ता की ही पूजा-अर्चना होती है. विघ्नाहर्ता को प्रसन्न करने वाला त्योहार गणेश चतुर्थी इस साल 10 सितंबर से शुरू होने जा रहा है.भगवान गणेश इस दिन घर पर विराजेंगे  और अननंत चतुर्थी यानी 19 सितंबर को उन्हें विदा भी कर दिया जाएगा.

ज्योतिषाचार्यों की मानें तो विघ्नहर्ता की कृपा से भक्तों को सौभाग्य और सुख-शांति की प्राप्ति होती है. ऐसी मान्यता है कि नीले और काले रंग के वस्त्र गणेश चतुर्थी के दिन नहीं पहना चाहिए. इस दिन येलो और रेड कलर के ही कपड़े पहनने चाहिए बेहद शुभ होता है.

ये है गणेश चतुर्थी 2021 का शुभ मुहूर्त 

दोपहर 12 बजकर 17 मिनट से गणेश चतुर्थी पूजन का शुभ मुहूर्त शुरू हो जाता है और रात 10 बजे तक रहने वाला है. 

चंद्रमा का दर्शन गणेश चतुर्थी के दिन नहीं करना चाहिए-

मान्यता ऐसी है कि चंद्रमा के दर्शन गणेश चतुर्थी के दिन नहीं करना चाहिए. अगर भूल से चंद्रमा के दर्शन हो भी जाए तो जमीन से एक पत्थर उठाएं और उसे पीछे की तरफ फेंक दें.

ये है गणेश चतुर्थी की पूजन विधि

प्रात: काल गणेश चतुर्थी के दिन स्नान आदि करके गणपति व्रत का संकल्प लेना चाहिए. उसके बाद गणपति की मूर्ति को दोपहर के समय लाल कपड़े के ऊपर रख लें. उसके बाद गंगाजल छिड़कें और भगवान गणेश का आह्वान करें. पुष्प, सिंदूर, जनेऊ और दूर्वा भगवान गमेश को चढ़ाए. उसके बाद गणपति को मोदक चढ़ाें और मंत्रो का उच्चारण कर पूजन करें. गणेश जी की कथा पढ़ना चाहिए उसके बाद, उसके बाद गणेश चालीसा का पाठ करें, और आरती अंत में करें.

 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें