आगरा के बाजारों और स्मारकों को जोड़ेगी मेट्रो, पर्यटन कारोबार में भी होगी वृद्धि

Smart News Team, Last updated: 07/12/2020 09:22 PM IST
  • आगरा में मेट्रो का रूट इस तरह से डिजाइन किया कि इसके सभी स्मारकों को आपस में जोड़ देगी. बताया जा रहा है कि इससे पर्यटन कारोबार भी आगरा में रफ्तार पकड़ सकता है.
आगरा में मेट्रो का रूट इस तरह से डिजाइन किया कि इसके सभी स्मारकों को आपस में जोड़ देगी

आगरा: आगरा वासियों को मेट्रो रेल की सौगात मिल चुकी है. जल्द ही मेट्रो निर्माण परियोजना का काम शुरू होने वाला है. लेकिन खास बात तो यह है कि मेट्रो का रूट इस तरह से डिजाइन किया कि इसके सभी स्मारकों को आपस में जोड़ देगी. बताया जा रहा है कि इससे पर्यटन कारोबार भी आगरा में रफ्तार पकड़ सकता है. बाजारों के अलावा प्रमुख कॉलेजों, रेलवे स्टेशन और बस अड्डों के पास भी मेट्रो रेल की सुविधा मौजूद होगी.

रिपोर्ट के मुताबिक आगरा मेट्रो में हर साल करीब 60 लाख सैलानी मेट्रो में सफर कर सकेंगे. इस बारे में बात करते हुए उत्तर प्रदेश मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि 29.4 किमी लंबे दो कॉरिडोर बनाए जाएंगे. इसमें ताज ईस्ट गेट से सिकंदरा के बीच लगभग 14 किमी का पहला कॉरिडोर शामिल होगा. पहले कॉरिडोर में ही 13 मेट्रो स्टेशन शामिल होंगे. इस कॉरिडोर में 6.4 किमी. का एलिवेटेज (उपरिगामी)  7.6 किमी का अंडरग्राउंड (भूमिगत)  हिस्सा होगा.

तेज धूप से मिली ताजनगरी में सर्दी से राहत, तापमान पहुंचा 29 डिग्री सेल्सियस

आगरा मेट्रो रेल का यह पहला कॉरिडोर ताज ईस्ट गेट, बसई, फतेहाबाद रोड, ताजमहल, आगरा किला, जामा मस्जिद, एसएन मेडिकल कॉलेज, आगरा कॉलेज, राजा की मंडी, आरबीएस कॉलेज, शास्त्री नगर, गुरुद्वारा गुरु का ताल और सिकंदरा जैसी आगरा की लगभग सभी महत्वपूर्ण जगहों से होकर गुजरेगा. कुमार केशव ने आगे बताया कि आगरा में मेट्रो निर्माण के दौरान स्मारकों पर कोई गलत प्रभाव न पड़े, इस बात का विशेष ख्याल रखा जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें