आगरा बुलेटिन: कंगना के विरुद्ध केस दर्ज कराने को अर्जी दी

Smart News Team, Last updated: 25/09/2020 10:03 PM IST
  • आगरा में किसान नेताओं का प्रदर्शन, नारेबाजी. कृषि बिल के विरोध में किसान नेता और राजनैतिक पार्टियों ने जगह जगह प्रदर्शन और विरोध किया. भारतीय किसान यूनियन और किसानों ने आगरा और फतेहाबाद मार्ग क़रीब 15 मिनट के लिए जाम कर दिया. वहीं सपा ने एमजी रोड पर जाम लगाया. इस दौरान पुलिस और नेताओं में नोक झोंक भी हुई.  
  • कंगना के विरुद्ध केस दर्ज कराने को अर्जी दी. कंगना के विरुद्ध एक अधिवक्ता ने राजद्रोह की मुक़द्दमा दायर करनी की गुहार लगाई है. मुख्य न्यायिक मेजिस्ट्रेट प्रीति सिंह ने थाना न्यू आगरा से आख्या तलब की है. कंगना पर ये आरोप लगाने वाले वकील नरेंद्र सोनी का कहना है की कंगना ने हाल ही में ट्वीट किया था की भर्तियों ने जाती व्यवस्था को अस्वीकार कर दिया है, सिर्फ़ हमारे संविधान में आरक्षण के रूप में इसे बरकरार रखा गया है. नरेंद्र सोनी के अनुसार ये संविधान का अपमान व जाती विशेष की भावना को भड़काने वाला बयान है. 
  • बीहड़ की जमीन पर अ‌वैध कब्जों को गम्भीरता से लेते हुए ज़िलाधिकारी प्रभु एन सिंह ने जाँच के लिए कमेटी के गठन के निर्देश दिए हैं. डीएम ने बताया कि राजस्व अभिलेखों की जाँच कराई जाएगी, उसके आधार पर कब्जा करने वाले को नोटिस भेजा जाएगा. कब्जा करने वालों की मदद करने वाले सरकारी कर्मचारियों के ख़िलाफ़ भी कार्यवाही की जाएगी.  
  • ऐडवोकेट राम सारस्वत पर हुए हमले के हमलावरों की गिरफ्तारी ना होने पर  तहसील सदर के वकीलों ने प्रदर्शन किया. वकीलों ने निबंधन कार्य का बहिष्कार किया जिसकी वजह से एक भी बैनावा नही हो पाया. 
  • कोरोना के चलते एक बार बंदियों की पैरोल फिर आठ सप्ताह तक बढ़ी. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद प्रशासन ने 7 साल तक की सजा के बंदियों को पैरोल पर रिहा किया था. ज़िला जेल से मार्च माह में 114 सजा काट रहे बंदे 8 सप्ताह के लिए पैरोल पर रिहा हुए थे. 

सम्बंधित वीडियो गैलरी