आगरा: ताजमहल में सैलानियों की सुरक्षा को बनाई जा रही मलेशियाई लकड़ी की रेलिंग

Smart News Team, Last updated: 06/11/2020 10:53 AM IST
आगरा के आसमान पर गुरुवार को धुंध छायी रही. जिससे लोगों की मुश्किलें बढ़ गईं. सारा दिन सूर्य देव के दर्शन भी नहीं हुए. इस बीच सर्दी की भी दस्तक होने लगी है. सुबह घर से टहलने निकले लोगों को धुंध के बीच परेशानी का सामना करना पड़ा. इधर नेशनल हाईवे पर दौड़ते वाहनों की धुंध की रफ्तार ने ब्रेक लगवा दी है. वहीं पारा गिरने से लोगों के दिन भर सर्दी का एहसास भी होता रहा.            ताजमहल देखने के लिए आने वाले सैलानियों की हिफाजत स्मारक पर मलेशियाई लकड़ी के द्वारा की जाएगी. एएसआई ने स्मारक के मुख्य गुंबद प्लेटफार्म पर लकड़ी की रेलिंग लगाने की योजना बनाई है. एएसआई का कहना है कि पुरातत्व विभाग यह कार्य सैलानियों की सुरक्षा के लिए कर रहा है. इससे पहले यहां पर फ्रांस के एक पर्यटक की प्लेटफार्म से नीचे गिरने से मौत हो चुकी है, जिसके चलते यह कदम उठाया जा रहा है.                                                             जॉन्स मिल की जमीन के मामले में केस लड़ने वाले अधिवक्ता केपी यश हत्याकांड के मुख्य आरोपी जीतू यादव को को गुरुवार को फिरोजाबाद जेल से आगरा कोर्ट लाया गया. उसे हत्या के मुकद्मे में तलब किया गया था. कोर्ट ने उसे न्यायिक अधिरक्षा में लेने के बाद फिरोजाबाद जेल वापस भेज दिया. पुलिस जीतू यादव को अब पुलिस कस्टडी रिमांड पर लेगी. पुलिस के पास इसके लिए ठोस आधार भी हैं.                                                                                                               ताजगंज की पुष्पांजली ईको सिटी कॉलोनी में रहने वाले पूर्व सैनिक की पत्नी संगीता राजावत हत्याकांड के मामले में गुरुवार को शासन की ओर से परिवार को पांच लाख रुपए की आर्थिक सहायता प्रदान की गई. पूर्व सैनिक अनिल राजावत को गुरुवार को आर्थिक सहायता देने के लिए विधायक हेमलता दिवाकर और रामप्रताप सिंह चौहान उनके घर पर पहुंचे. उन्हें सरकार की ओर से आर्थिक सहायता का चेक प्रदान किया गया.हालांकि पूर्व सैनिक इस मामले में सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से संतुष्ट नहीं है. उनका कहना है कि पुलिस को कार्यप्रणाली में सुधार की जरूरत है. सदर थाना क्षेत्र में भी एक पूर्व सैनिक के साथ गत दिवस ही मारपीट हुई है. उस मामले में भी पुलिस ने ढिलाई बरती है.            राजस्थान का गुर्जर आंदोलन पांचवे दिन भी गर्माया रहा. गुर्जर आंदोलन के चलते आगरा और इधर से गुजरने वाली ट्रेनों पर काफी प्रभाव पड़ रहा है. पांचवें दिन लगातार 20 से अधिक ट्रेनें रेल प्रशासन को डायवर्ट करनी पड़ीं. इन ट्रेनों को आगरा कैंट और आगरा फोर्ट की ओर से दिल्ली, मुंबई और कोलकाता की ओर रवाना किया गया. दूसरी ओर 150 से अधिका यात्रियों ने आगरा कैंट स्टेशन पर अपने टिकट कैंसिल भी करवाए. वहीं भरतपुर के पीलूपुरा रेल ट्रैक पर जमे गुर्जर आंदोलनकारी लगातार सरकार से हुंकार भर रहे हैं. उनका कहना है कि जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं होगी. वह ट्रैक से नहीं हटेंगे.

सम्बंधित वीडियो गैलरी