आगरा को जहरीली धुंध ने घेरा, दोपहर के समय एयर क्वालिटी इंडेक्स 463 तक पहुंचा

Smart News Team, Last updated: 09/11/2020 10:24 AM IST
ताजनगर प्रदूषण की जहरीली धुंध की गिरफ्त में आ गई है. यहां आबो हवा में धूल के कण और जहरीले रसायन घातक स्तर तक पहुंच गए हैं. दोपहर तीन बजे आगरा का एक्यूआई 463 माइक्रोग्राम प्रति मीटर रहा, जबकि इसका अधिकतम स्तर 500 माइक्रोग्राम प्रति मीटर दर्ज किया गया है. ऐसे में लोगों को सांस लेना तक मुश्किल हो गया है. इधर इसके कारण आगरा प्रदेश का सबसे प्रदूषित शहर बन गया है. प्रदूषण ने अस्पतालों में मरीजों की संख्या भी बढ़ा दी है. इसके कारण अधिकतम तापमान 30 डिग्री से भी नीचे पहुंच गया है. अब इसके कारण कोविड बढ़ने से दोहरी मार पड़ने की संभावना है.                                                     खेहरागढ़ के गांव नगलासोन के पास रविवार सुबह करीब चार बजे खनन माफिया के गुर्गे ने सिपाही सोनू कुमार की ट्रैक्टर से कुचलकर हत्या कर दी. पुलिस खनन की बालू लेकर जा रहे ट्रैक्टर ट्रालियों का पीछा कर रही थी. सिपाही ट्रैक्टर पर चढ़ गया तो चालक ने ट्रैक्टर ट्राली पलट दी. इसके कारण सिपाही उसके नीचे दब गया. इसके बाद खनन माफिया के गुर्गे फायरिंग करते हुए वहां से भाग निकले. हत्या की सूचना ने अधिकारियों के होश उड़ा दिए. घटना के बाद जिले भर की पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई है. मामले में खेहरागढ़ थाने में हत्या का मामला दर्ज किया गया है.                                                                            बरहन के गांव खेत में सो रहे आलू किसान की शनिवार की रात कनपटी पर गोली मारकर हत्या कर दी गई. रविवार सुबह उसका बेटा चाय लेकर पहुंचा तो उसका शव चारपाई पर पड़ा मिला. चारपाई भी खून से सनी हुई थी. बेटे ने गांव में लोगों को सूचना दी. सूचना मिलते ही थाना पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है. पुलिस को आशंका है कि हत्या उसके किसी करीबी ने ही की है.                                                                                        नेशनल हाईवे पर अवैध पार्किंग दुर्घटनाओं को न्यौता दे रही है. इससे आ रही दिक्कतों को दूर कर ट्रैफिक व्यवस्था सुचारु कराने के लिए अपर जिला जज अनिल कुमार ने एसपी ट्रैफिक को पत्र भेजा है. इसमें कहा है कि थाना सिकंदरा और ट्रैफिक पुलिस की मदद से यातायात सुचारू करें. साथ ही निर्देश दिए है कि की गई कार्रवाई से 9 नवंबर तक अवगत भी करवाएं. पत्र में यह भी कहा गया है कि अगर कार्रवाई नहीं होती है तो कोई भी अप्रिय घटना होने पर जिम्मेवारी आपकी होगी.                                                                                                          गुर्जर आंदोलन के चलते लगातार 8वें दिन रेलवे के वेस्टर्न रूट की अप एंड डाउन की 20 से अधिक ट्रेनें आगरा से होकर गुजरीं. भरतपुर के पास दिल्ली-मुबंई रेल मार्ग पर बैठ गुर्जर समाज के लोग रविवार को भी पटरियों पर डटे रहे. इस वजह से रविवार को भी टिकट कैंसिल होने का सिलसिला भी जारी रहा. रविवार को चार ट्रेनों को निरस्त भी किया गया.

सम्बंधित वीडियो गैलरी