आगरा: गुर्जर आंदोलन के कारण ट्रेनें डायवर्ट की गईं, रेल यात्रियों को हुई परेशानी

Smart News Team, Last updated: 03/11/2020 10:34 AM IST
आगरा. गुर्जर आंदोलन के कारण भरतपुर के पास दिल्ली-मुबंई लाइन पर बैठे गुर्जर समाज के लोग सोमवार को भी पटरियों पर ही डटे रहे. भरतपुर के पास पीलुपुरा में पटरियों पर बैठे आंदोलनकारियों के चलते रविवार के बाद सोमवार को भी एक दर्जन से अधिक ट्रेनों को आगरा कैंट और आगरा फोर्ट से डायवर्ट करके गुजारा गया. जिसकी वजह से यात्रियों को परेशानी हुई. जिन स्टेशनों पर ट्रेनें नहीं पहुंची वहां उतरने वाले यात्रियों को बस व टैक्सी से अपने गंतव्य को रवाना होना पड़ा.                                                                                                             पुलिस सुरक्षा के साथ ही समाज सेवा भी करती है. पुलिस की ऐसी ही छवि सिपाही के एक सेवा कार्य से बनी है. कोविड काल में रक्तदान दाताओं की कमी हो गई है. ऐसे में प्लेटलेट्स देने वाले बामुश्किल मिल पा रहे हैं. पीआरबी 112 में तैनात सिपाही श्याम सुंदर ने प्लेटलेट्स दान करके हाथरस की महिला की जान बचाई. महिला के परिजन पुलिस का शुक्रिया अदा करते थक नहीं रहे हैं. उनका कहना है कि सिपाही देवदूत बनकर आया था. वे तो रक्तदान दाता ना मिलने से हताश हो गए थे. सिपाही के इस कार्य के लिए यूपी 112 के एडीजी असीम अरुण ने सिपाही को प्रशस्ति पत्र दिया है.                                                                 एसएन मेडिकल कॉलेज की सामान्य ओपीडी लंबे समय के बाद जैसे ही सोमवार सुबह खुली तो मरीजों की भीड़ यहां जुट गई. इस दौरान बहुत से मरीज ऐसे थे जो जानकारी के अभाव में रजिस्ट्रेशन कराकर ही नहीं गए थे. ऐसे लोगों को गेट पर से ही वापस कर दिया गया. सोमवार को एसएन की ओपीडी में 130 मरीज देखे गए. बतां दे कि ओपीडी के लिए कुल 230 लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया था.                                                                                                                                       एक माह पहले मैसूर कर्नाटक से लापता इंजीनियरिंग छात्र अभिषेक आईएसबीटी पर मिला. वह इंजीनियरिंग की पढ़ाई ना करन की इच्छा के कारण होस्टल से भाग आया था. इसके बाद वह घर पर भी संपर्क नहीं कर रहा था. यहां पर एटीएम यूज करते ही उसके पिता को उसकी लोकेशन की जानकारी हुई. उन्होंने हरिपर्वत थाने में संपर्क किया. उनका फोन आने के बाद पुलिस ने छात्र को खोज निकाला. वह एक दिन पुलिस का मेहमान बनकर रहा, इसके बाद उसके पिता आए और उसे अपने साथ ले गए.                                              आगरा पुलिस ने धोखाधड़ी में गायत्री डेवलपर के मालिक हरिओम दीक्षित के साथियों पर भी शिकंजा कसना शुरू कर दिया है. इससे पहले मलपुरा निवासी हरिओम दीक्षित व उनकी पत्नी कल्याणी दीक्षित को पुलिस ने तीन अक्टूबर को गिरफ्तार करके जेल भेजा था. सिकंदरा पुलिस ने एक प्रोजेक्ट में हरिओम दीक्षित के पार्टनर रहे अशोक शर्मा को गिरफ्तार करके जेल भेजा है. पुलिस ने बताया कि हरिओम दीक्षित के भाई देवेंद्र की तलाश की जा रही है. वह अभी सभी मुकद्दमों में नामजद है.

सम्बंधित वीडियो गैलरी