रिश्वतखोरी में AIIMS डिप्टी डायरेक्टर धीरेंद्र प्रताप सस्पेंड, घर से 9 लाख कैश बरामद

Anurag Gupta1, Last updated: Mon, 27th Sep 2021, 10:55 AM IST
  • सीबीआई ने एम्स भोपाल के डिप्टी डायरेक्टर धीरेंद्र सिंह को रिश्वत लेने के मामले में गिरफ्तार किया है. तलाशी के दौरान सीबीआई को धीरेंद्र के घर से नौ लाख नकदी सहित अन्य दस्तावेज मिले है. फिलहाल एक अक्टूबर तक अदालत ने धीरेंद्र को सीबीआई रिमांड पर भेजा है.
अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान भोपाल (फाइल फोटो)

भोपाल. सीबीआई ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) भोपाल के डिप्टी डायरेक्टर धीरेंद्र प्रताप सिंह को एक लाख रिश्वत लेने के मामले में गिरफ्तार किया है. सीबीआई को जांच में अब तक की घर से नौ लाख रूपए कैश और 84 लाख के म्युचुअल फंड के दस्तावेज मिले हैं. धीरेंद्र को रिश्वत लेते पकड़े जाने के बाद निलंबित कर दिया गया है. अदालत ने जांच के लिए एक अक्टूबर तक सीबीआई रिमांड में भेज दिया है.

सीबीआई ने एम्स के डायरेक्टर को शनिवार को रिश्वत लेने के मामले में गिरफ्तार किया था. इसके बाद सीबीआई ने घर की तलाशी ली तो म्युचुअल फंड सहित अन्य जगहों पर निवेशों के दस्तावेज मिले हैं. धीरेंद्र ने अलग-अलग तरीके से कई जगह निवेश कर रखा है. घर में नौ लाख कैश सहित 450 ग्राम सोने के जेवर मिले हैं. जिसकी जांच सीबीआई कर रही है. सीबीआई को तलाशी के दौरान धीरेंद्र के घर से भोपाल में एक बंगला और एक फ्लैट के दस्तावेज भी मिला है. बैंकों के भी कई दस्तावेज मिले हैं जिसे सीबीआई ने कब्जे में ले लिया है जिसकी जांच सोमवार को बैंक खुलने के बाद की जाएगी. धीरेंद्र के पास से दो लॉकर भी मिले हैं जिसे अभी खोला जाएगा. जांच के दौरान धीरेंद्र सीबीआई की सहयोग करते नजर नहीं आए. फिलहाल एक अक्टूबर तक धीरेंद्र सीबीआई रिमांड पर हैं.

MP में वाहन चेकिंग के दौरान रिश्वत लेते हुए महिला हवलदार का वीडियो वायरल, हुई सस्पेंड

मामले की जानकारी होते ही केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने धीरेंद्र के रिश्वत लेने के मामले की जानकारी मांगी. इसके बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने त्वरित कार्यवाही करते हुए धीरेंद्र के निलंबन का आदेश जारी कर दिया है. सीबीआई ने धीरेंद्र को अदालत में पेश किया था जिसके बाद अदालत ने एक अक्टूबर तक सीबीआई रिमांड की मंजूरी दे दी. सीबीआई सभी कागजात कब्जे में लेकर जांच में जुटी हैं. सोमवार को बैंक खुलते ही खाते का ब्यौरा व लॉकर का ब्यौरा जुटाया जाएगा. 

 

अन्य खबरें