भोपाल, इंदौर, ग्वालियर और जयपुर में बनेंगे रिंग रोड, नितिन गडकरी ने दी हरी झंडी

ABHINAV AZAD, Last updated: Thu, 23rd Sep 2021, 2:08 PM IST
  • मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की बैठक हुई. इस बैठक में मध्यप्रदेश के चार बड़े शहर भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में रिंग रोड के निर्माण पर फैसला हुआ.
(फोटो क्रेडिट- सोशल मीडिया)

भोपाल. मध्यप्रदेश के चारों बड़े शहरों भोपाल, इंदौर, जबलपुर और ग्वालियर में रिंग रोड का निर्माण होगा. इस प्रस्तावित रिंग रोड का निर्माण निर्माण नेशनल हाईवे अथॉरिटी ऑफ इंडिया (NHAI) करेगा. इस बाबत मुख्‍यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की बैठक हुई. दरअसल, इस बैठक के बाद तय हुआ कि प्रस्ताविक रिंग रोड के लिए मध्यप्रदेश सरकार जमीन उपलब्ध देगी. साथ ही इस प्रोजेक्ट को एक साल में पूरा कर लिया जाएगा. मिली जानकारी के मुताबिक, अटल एक्सप्रेस-वे(चंबल) के दोनों तरफ इंडस्ट्रियल क्लस्टर बनेंगे और 900 KM लंबे नर्मदा एक्सप्रेस-वे को भारतमाला प्रोजेक्ट में शामिल किया जाएगा.

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि बैठक के बाद अटल एक्सप्रेस-वे के दोनों तरफ इंडस्ट्रियल क्लस्टर निर्माण पर बात हुई. साथ ही केन्द्रीय मंत्री के साथ भोपाल, जबलपुर और ग्वालियर में रिंग रोड निर्माण पर सहमति बनी है. दरअसल, मध्यप्रदेश के तीनों शहरों में रिंग रोड का निर्माण इंदौर के सुपर कॉरिडोर की तर्ज पर किया जाएगा. सीएम ने कहा कि ऐसा करने से रिंग रोड के दोनों तरफ औद्योगिक गतिविधियां हो सकेंगी. इस बैठक में फैसला लिया गया कि साल 2021 में मध्यप्रदेश में 10 हजार करोड़ के प्रोजेक्ट शुरू होंगे. मध्यप्रदेश सरकार की तरफ से मुख्य सचिव इकबाल सिंह चौहान ने बैठक में कहा कि ये प्रोजेक्ट अगले दो वित्तीय वर्षों में पूरे किए जाएंगे. इसके बाद केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने कहा कि ये प्रोजेक्ट इसी साल शुरू किए जाएं.

CM शिवराज सिंह चौहान ने 1000 करोड़ रुपये के विकास कार्यों का किया लोकार्पण

गौरतलब है कि केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने बीते 26 सितंबर को इंदौर में 9577 करोड़ रुपए लागत की 1356 किलोमीटर लंबी 34 सड़क प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण और शिलान्यास किया था. साथ ही इस दौरान मंत्री ने मध्यप्रदेश के प्रोजेक्ट्स के लिए 1 लाख करोड़ रुपए की बात कही थी. मंत्री ने बुधनी से जुड़े तीन नेशनल हाईवे को भी मंजूरी दी थी.

अन्य खबरें