Covid Vaccination: बच्चों के वैक्सीनेशन में मध्य प्रदेश टॉप पर, CM शिवराज ने दी बधाई

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 4th Jan 2022, 1:32 PM IST
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बच्चों के कोरोना वैक्सीनेशन मामले में मध्य प्रदेश के टॉप पर रहने पर बधाई दी. साथ ही उन्होंने मंत्री परिषद के सदस्यों से अनुरोध किया कि वे जिलों में बच्चों के वैक्सीनेशन कार्य का जायजा लें.
CM ने मंत्रिपरिषद की बैठक में बच्चों के वैक्सीनेशन में सभी प्रांतों से आगे रहने की उपलब्धि से अवगत कराया.

भोपाल. (वार्ता) मध्य प्रदेश बच्चों के कोरोना वैक्सीनेशन मामले में टॉप पर है. दरअसल, मंगलवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रालय में मंत्रिपरिषद बैठक प्रारंभ होने के पहले प्रदेश के बच्चों के वैक्सीनेशन में सभी प्रांतों से आगे रहने की उपलब्धि से अवगत कराया. साथ ही सीएम ने मंत्री परिषद के सदस्यों से अनुरोध किया कि वे जिलों में बच्चों के वैक्सीनेशन कार्य का जायजा लें.

मंत्रिपरिषद के सदस्यों ने मुख्यमंत्री श्री चौहान को इस उपलब्धि के लिए मेजें थपथपा कर बधाई दी. श्री चौहान ने कहा कि इस कार्य को गति देने के लिए अपने नेतृत्व में प्रयास करें. उन्होंने इसके लिए स्वास्थ्य विभाग सहित सभी सहयोगी विभागों स्थानीय प्रशासन जनप्रतिनिधियों शिक्षक संगठनों और नागरिकों को बधाई दी.

OBC महासभा का आरक्षण को लेकर प्रदर्शन: भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर आजाद समेत सैकड़ों लोग गिरफ्तार, भोपाल के कई रास्ते बंद

मध्यप्रदेश में 15 से 18 वर्ष आयु के बच्चों के वैक्सीनेशन कार्य के पहले दिन ही बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन हुआ है. स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग के संयुक्त प्रयासों से निर्मित अनुकूल वातावरण का लाभ मिला है. बच्चों को वैक्सीनेशन से सुरक्षा चक्र उपलब्ध कराया गया है. यह कार्य शीघ्र पूर्ण किया जाएगा.

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जिलों में किए गए संवाद, क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप से हुई चर्चा और प्रशासन एवं जनता की भागीदारी से अच्छे परिणाम मिल रहे हैं. आशा है मध्य प्रदेश सामान्य वेक्सीनेशन के साथ 15 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों के वैक्सीनेशन में इसी तरह नंबर एक पर बना रहेगा.

श्री चौहान ने मंत्री परिषद की बैठक के पहले सदस्यों को जानकारी दी कि मध्यप्रदेश उन राज्यों में शामिल है जहां बेरोजगारी की दर सबसे कम है. उन्होंने कहा कि निश्चित ही यह मध्य प्रदेश के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है. गत वर्ष अधोसंरचना पर 40 फीसदी अधिक राशि खर्च की गई. कोरोना काल में किए गए प्रयास इसलिए महत्व रखते हैं क्योंकि संकट के समय ऐसे प्रयासों की आवश्यकता थी. उन्होंने कहा कि हमने विपरीत परिस्थितियों में उपलब्धि अर्जित की है. लघु मध्यम एवं सूक्ष्म उद्योगों के विकास के लिए निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं.

मुख्यमंत्री ने सभी मंत्रियों से कहा कि स्वामी विवेकानंद जयंती पर आगामी 12 जनवरी को रोजगार दिवस मनाया जाएगा. एक दिन में तीन लाख लोगों को ऋण के स्वीकृति पत्र प्रदान किए जाएंगे. यह एक बड़ा कदम होगा. यह कार्य प्रतिमाह किया जाएगा. राज्य स्तरीय समिति और जिलों की समितियों से संपर्क कर मध्यप्रदेश को विभिन्न और स्वरोजगार योजना में अग्रणी बनाने के प्रयास करें. उन्होंने कहा कि पीएम और सीएम स्वानिधि सहित अन्य योजनाओं में हमें अग्रणी रहना है. मुख्यमंत्री उद्यम क्रांति योजना को भी पूरी ताकत के साथ लागू करना है.

अन्य खबरें