जब लता मंगेशकर को धीमा जहर देकर मारने की कोशिश की गई थी, अनसुने किस्से याद करें

Pallawi Kumari, Last updated: Sun, 6th Feb 2022, 12:26 PM IST
  • दिग्गज गायिका लता मंगेशकर का निधन आज रविवार सुबह हो गया. लता जी के निधन की खबर ने सभी को दुखी कर दिया. उनकी सुरीली आवाज और सदाबहार गानों की चर्चा तो आपने खूब सुनी होगी. लेकिन क्या आप जानते हैं कि जब लता जी जब 33 साल की थीं तो उन्हें किसी ने जहर देकर मारने की कोशिश की थी.  
लता मंगेशकर (फोटो-सोशल मीडिया)

भोपाल. हिंदी सिनेमा की दिग्गज गायिका स्वर कोकिला लता मंगेशकर जी का निधन हो गया है. 92 साल की उम्र में उन्होंने आज रविवार सुबह दुनिया को अलविदा कह दिया. वह भले ही अब इस दुनिया में नहीं हो लेकिन उनकी आवाज  और गानों से उनका प्यार जीवनभर लता जी के होने का एहसास कराती रहेगी. उनकी सुलीरी आवाज हमारे कानों में सदा के लिए गूंजेंगी. लता मंगेशकर ने 92 साल के जीवन में 78 साल संगीत को दिये. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आज से 59 साल पहले जब लता मंगेशकर 33 साल की थीं तब उन्हें जहर देकर मारने की कोशिश की गई थी. आइये जानते हैं लता दीदी के जीवन से जुड़ा अनसुना किस्सा.

लता मंगेशकर को दिया गया था स्लो पॉयजन-

लता मंगेशन ने छोटी उम्र में ही संगीत को जीवन बना लिया था. जब वह 33 साल की थीं सफलता की सीढ़िया चढ़ रही है. एक के बाद एक उनके गाने सुपहिट हो रहे थे. लेकिन अचानक उनकी जिंदगी में ऐसा समय आया, जिसके बारे में उन्होंने कभी सोचा नहीं होगा. एक दिन अचानक उनकी तबियत बिगड़ और पेट में दर्द शुरू हो गया. उन्हें खूब उल्टियां होने लगे. जब डॉक्टर ने इलाज किया तो जांच में पता चला कि उन्हें स्लो पॉयजन (धीमा जहर) दिया गया है.

स्वर कोकिला लता मंगेशकर का 92 की उम्र में निधन, PM मोदी समेत कई नेताओं ने दी श्रद्धांजलि

लता मंगेशकर ने इंटरव्यू में जहर के किस्से का किया था खुलासा- 

लता जी ने एक इंटरव्यू के दौरान कहा था- "हम मंगेशकर्स इस बारे में बात नहीं करते. क्योंकि साल 1963 हमारी जिंदगी का सबसे भयानक दौर और बुरा था. मुझे इतनी कमजोरी महसूस होने लगी कि मैं बिस्तर से भी उठ नहीं पाती थी. मेरी हालात ऐसी हो गई थी कि मैं अपने दम पर चल फिर भी नहीं सकती थी."

जहर देने वाले शख्स का नाम जानती थीं लता मंगेशकर- 

इंटरव्यू में उन्होंने बताया था कि, वह जानती हैं कि उन्हें किसने जहर देकर मारने की कोशिश की है. लेकिन उस शख्स के खिलाफ कोई सबूत नहीं है इसलिए उन्होंने उसका नाम नहीं लिया क्योंकि इस वजह से उस पर एक्शन नहीं लिया जा सकता था. हालांकि इस हादसे के बाद वह ज्यादा सतर्क रहने लगी थीं.

जहर हादसे के बाद पहले गाने पर मिला फिल्मफेयर अवार्ड-

तीन महीने तक बिस्तर में रहने के बाद वह इस जहर वाले हादसे से ठीक हो पाई और गाने लगीं. इस हादसे के बाद लताजी ने जो पहना गाना गाया था वो था 'कहीं दीप जले कहीं दिल'. ये गाना सुपरहिट हुआ और इस गाने के लिए उन्हें फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला था.

Lata Mangeshkar passes away: नहीं रहीं स्वर कोकिला लता मंगेशकर, 92 साल की उम्र में निधन

 

अन्य खबरें