सुअर को पकड़ने के लिए बिछाया था जाल, फंसकर तेंदुए की हुई मौत, एक गिरफ्तार

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sun, 21st Nov 2021, 6:35 PM IST
  • जबलपुर के टेमर भीटा इलाके में सुअर, चीतल व अन्य के लिए बिछाए गए लोहे के जाल के फंदे में एक तेंदुए के फंसने से मौत हो गई. सूचना पाकर सक्रिय हुई वन विभाग की टीम ने डॉग स्क्वायड की मदद से आरोपी को कुछ घंटों में पकड़ लिया.
प्रतीकात्मक फोटो

मध्य प्रदेश के जबलपुर में तेंदुए के शिकार का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है. जिले के टेमर भीटा इलाके में सुअर, चीतल व अन्य के लिए बिछाए गए लोहे के जाल के फंदे में फंसने से तेंदुए की मौत हो गई. सूचना पाकर सक्रिय वन विभाग की टीम ने डॉग स्क्वायड ट्रेस की मदद से आरोपी को कुछ घंटों में पकड़ लिया गया. 

वन विभाग के मुताबिक तेंदुआ के फंदे में फंसने की सूचना सेना ने दी थी. टेमर भीटा के नजदीक एक निजी स्कूल की फेंसिंग में तेंदुआ फंसा था.  तेंदुए की मौत के बाद पोस्टमार्टम के लिए वेटरनरी साइंस लैबोरेटरी ले जाया गया. हालांकि फारेंसिक रिपोर्ट अभी वन विभाग को नहीं मिला है.

दुस्साहस: रीवा में मजदूरी मांगने पर मालिक ने मजदूर का काटा हाथ, गिरफ्तार

डीएफओ अंजना सुचिता तिर्की ने बताया कि घटना की सूचना पर डॉग स्क्वायड ट्रेस टीम को फेंसिंग के पास ले जाकर छोड़ा गया. वह आधा किमी दूर मुन्ना कुमार के घर के पास भौंकने लगा. तलाशी में उसके घर से फंदा तैयार करने वाले उपकरण मिले. वहीं घटनास्थल के आसपास भी कई साइज के फंदे मिले. जो वन विभाग की सक्रियता पर भी बड़ा सवाल खड़े कर रहे हैं.

फिलहाल वन विभाग की टीम इस घटना पर सक्रियता दिखाते हुए आरोपी मुन्ना को हिरासत में लेकर पूछताछ में जुट गई है. इस इलाके में लगातार हो रहे जंगली जानवरों के शिकार होने पर वन विभाग का अमला लगाम नहीं लगा पा रही है. वन विभाग के अनुसार टेमर भीटा इलाके में 35 से 40 की संख्या में नर व मादा तेंदुए रहते हैं, जो आसपास अलग-अलग क्षेत्रों में भ्रमण करते रहते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि एक बार तो तेंदुआ नानाजी देशमुख वेटरनरी साइंस यूनिवर्सिटी परिसर में टहलते हुए पहुंच गया था.

अन्य खबरें