MP: बीजेपी के मंत्री की भविष्यवाणी, देश में 4-5 साल में बेरोजगारी और गरीबी का नामोनिशान होगा खत्म

Indrajeet kumar, Last updated: Sun, 7th Nov 2021, 9:27 AM IST
  • मध्यप्रदेश सरकार में कृषि मंत्री कमल पटेल ने कहा है कि जैविक खाद का इस्तेमाल कर कृषि को फायदा का रोजगार बना देंगे. उन्होंने कहा कि पहले खाद-बीज के लिए लोन मिलता था लेकिन अब व्यवसाय के लिए भी लोन मिलेगा. उन्होंने भविष्यवाणी करते हुए कहा की अगले पांच साल में प्रदेश व देश से बेरोजगारी और गरीबी खत्म हो जाएगी.
कृषि मंत्री कमल पटेल (फाइल फोटो)

भोपाल. मध्यप्रदेश सरकार में कृषि मंत्री कमल पटेल ने गरीबी और बेरोजगारी पर ऐलान करते हुए कहा कि हम जैविक खेती का मॉडल अपना कर कृषि को लाभ का रोजगार बना देंगे. जिसके बाद किसान खुद अपने उत्पाद की ब्रांडिंग कर एमआरपी तय कर सकेंगे. उन्होंने कहा की अगले पांच साल में प्रदेश व देश से बेरोजगारी और गरीबी खत्म हो जाएगी. कृषि मंत्री ने ये भी कहा कि हम छत्तीसगढ़ सरकार के गोधन योजना को हम एमपी में भी अपनाएंगे. कृषि मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने स्वामित्व योजना की घोषणा कर गांव और शहरों की खाई को मिटाने की कोशिश की है. अब तक गांवों में बनने वाले मकान व प्लाॅट की कोई कीमत नहीं होती थी साथ ही बैंक उस पर लोन भी नहीं देती थी. उसपर मालिकाना हक नहीं होता था.

कृषि मंत्री ने आग बोलते हुए कहा की अब तक खाद-बीज के लिए लोन मिलता था. लेकिन अब उन्हें व्यवसाय के लिए भी लोन मिलेगा. अब तक परिवार में एक कमाते थे और सब खाते थे लेकिन अब सब को काम मिलेगा. इन्होंने कहा की सभी को काम मिल जाने के बाद भारत में 4-5 साल के भीतर बेरोजगारी खत्म हो जाएगा. पटेल ने कहा कि आदिवासी जिले डिंडौरी, मंडला, अनूपपुर, शहडोल, उमरिया, छिंदवाड़ा और झाबुआ जैसे जिलों की मिट्‌टी अभी रासायनिक खाद से जहरीली नहीं हुई है. हमारी सरकार यहां की जमीनों की जैविक प्रमाणीकरण कराएगी. इसके बाद यहां के उत्पादों का ब्रांडिंग और एक्सपर्ट किया जाएगा. जिससे किसानों को अच्छी कीमत मिलेगी.

किसानों से 26 और हवाई जहाज फ्यूल पर मात्र 4 % टैक्स VAT वसूलेगी शिवराज सरकार

कृषि मंत्री ने सवालों के जबाब देते हुए कहा कि हम छत्तीसगढ़ सरकार के गोधन योजना को हम एमपी में भी लागू करेंगे. उन्होंने कहा कि अच्छे कार्यों को अपनाना चाहिए. उन्होंने पेस्टीफाइ से होने वाली पैदवार के चलते बीपी, कैंसर जैसी बीमारियों की चर्चा करते हुए कहा कि अब जमीन को जहरीला बनाने के बजाए जैविक खाद का उपयोग कर उसे स्वस्थ्य बनाने की जरूरत है.

अन्य खबरें