भोपाल आग कांड: कांग्रेस का आरोप- बच्चों की मौत के आंकड़े छुपा रही शिवराज सरकार

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 6:12 PM IST
  • कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि सोमवार देर रात कमला नेहरू अस्पताल के बाल चिकित्सा वार्ड में भीषण आग में 14 बच्चों की मौत हो गई.कांग्रेस सदस्यों के एक प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार सुबह अस्पताल का दौरा किया.
अस्पताल में सबकुछ जलकर खाक

भोपाल. राजधानी के सरकारी अस्पताल में लगी आग की घटना ने सबका दिल दहला दिया. इस हादसे में करीब 5 मासूम बच्चों की मौत हो गई थी. कांग्रेस सदस्यों के एक प्रतिनिधिमंडल ने बुधवार सुबह अस्पताल का दौरा किया और वहां भर्ती बच्चों और उस घटना में जान गंवाने वालों की सूची हासिल की. अस्पताल का दौरा करने वाले कांग्रेसियों में पूर्व चिकित्सा शिक्षा मंत्री डॉ विजय लक्ष्मी साधो, मीडिया विभाग के अध्यक्ष और विधायक जीतू पटवारी, पूर्व मंत्री पीसी शर्मा और भोपाल के विधायक आरिफ मसूद शामिल थे. जीतू पटवारी के मुताबिक एसएनसीयू में भर्ती हुए बच्चों और मरने वाले बच्चों की सूची बनाई गई है.

कांग्रेस के पूर्व मंत्री जीतू पटवारी ने कहा ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों और अस्पताल प्रशासन ने हमें वहां भर्ती बच्चों की पूरी सूची प्रदान की. उनकी सूची के अनुसार अब तक 14 बच्चों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा कि "क्या मौत पर मुआवजा देने से बचने के लिए सरकार मौत के आंकड़े छुपा रही है?" उन्होंने आगे कहा कि भोपाल में मातम छाया है और बीजेपी सरकार 15 नवंबर को पीएम नरेंद्र मोदी के आगमन की तैयारी में जश्न के मूड में है. पटवारी ने कहा, "कांग्रेस की मांग है कि पीएम को अपना दौरा रद्द करना चाहिए क्योंकि इस तरह की दुखद घटना के बाद भोपाल में शोक है."

भोपाल अस्पताल हादसे के बाद इंदौर नगर निगम की कार्रवाई, 54 अस्पतालों को नोटिस जारी

पटवारी ने छतरपुर अस्पताल और इंदौर के एमवाय अस्पताल में आग लगने की पिछली घटनाओं की जांच रिपोर्ट के बारे में भी पूछा. कांग्रेस ने कहा कि अस्पताल को घटना पर ब्योरा देने के लिए मीडिया ब्रीफिंग बुलानी चाहिए थी. वहीं, डा.साधौ ने कहा कि इस पूरी घटना के लिए प्रशासन जिम्मेदार है. अस्पतालों में रखरखाव सहित कर्मचारियों के प्रबंधन का काम केंद्र सरकार की कंपनी को दिया जाता है। वो ठेका अन्य संस्थाओं को देती है पर काम हो रहा है, यह किसी ने नहीं देखा.

पूर्व मंत्री पीसी शर्मा और विधायक आरिफ मसूद ने कहा कि सरकार पहले दिन से ही घटना को दबाने में लगी हुई है. हम इस पर सियासत नहीं करना चाहते हैं पर जो भी जिम्मेदार है उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी ही चाहिए.

अन्य खबरें