दिवाली में जमकर आतिशबाजी ने जहरीली की भोपाल-इंदौर की हवा, 500 के पास पहुंचा AQI

Smart News Team, Last updated: Fri, 5th Nov 2021, 11:28 PM IST
  • दिवाली की रात मध्य प्रदेश के कई जिलों में जमकर आतिशबाजी हुई. एक तरफ धूम-धड़ाके ने खूब खुशियां बिखेरी तो दूसरी तरफ इससे निकलने वाले धुंए ने धीरे-धीरे हवा को जहरीला बनाया. नतीजन भोपाल में एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 व इंदौर में 192 AQI तक पंहुच गई. जिससे लोगों को सांस लेने में काफी मुश्किलें हुई.
प्रतीकात्मक फोटो

भोपाल. मध्य प्रदेश में दिवाली की रात जम कर बम-पटाखे फोड़े गए. जगमगाती रातों में हुई इस धूम-धड़ाके ने भले ही एक तरफ खुशियां बिखेरी मगर की दूसरी तरफ राजधानी समेत सूबे के कई जिलों में लोगों को सांस लेना दूभर कर दिया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण मंडल (CPCB) ने बताया कि हवा में तेजी से बढ़ रहे पार्टीकुलेट मैटर (PM) के संख्या की वजह से इस तरह की मुश्किलें हो रही है. दरअसल PM 2.5 अपने खतरनाक स्तर से ऊपर पहुंच गया. जिसके चलते भोपाल में 500 AQI (एयर क्वालिटी इंडेक्स) और इंदौर में 192 AQI दर्ज की‌‌ गई. हालांकि जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया वैसे-वैसे  ख़तरनाक स्तर से वापस सामान्य की ओर भी लौटने लगी.

शुक्रवार की सुबह तक राजधानी भोपाल, इंदौर समेत सूबे के कई जिलों में लोगों को सांस लेने में काफी मुश्किले हुई. CPCB ने बताया कि दिवाली की रात ग्वालियर का AQI 307, भोपाल का 239, उज्जैन का 238, जबलपुर का 230, इंदौर का 192 व रतलाम का एयर क्वालिटी इंडेक्स 151 पहुंच गया था. हैरानी की बात तो ये है कि बम-पटाखों पर पाबंदी के बावजूद भी दिवाली की रात लोगों ने पटाखे फोड़े. जिसके चलते सूबे के इन जिलों की आबोहवा बेहद खराब हो गई. और इन जहरीली हवाओं के चलते लोगों को सांस लेने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा.

मोदी सरकार के बाद CM शिवराज ने भी घटाए पेट्रोल-डीजल के दाम, जानिए नए रेट

दीवाली की रात भोपाल में पटाखों का धुआं करीब 10 घंटे हवाओं में घुलता रहा जिसका नतीजा ये हुआ कि रात 10 बजे के बाद PM 2.5 के स्तर में बढ़त और कभी-कभी थोड़ी बहुत कमी दर्ज़ की गई. रातभर उतार चढ़ाव के बीच CPCB ने बताया कि रात 12 बजे से सुबह 4 बजे तक AQI का स्तर 500 तक पहुंच गया जो खासा चिंताजनक रहा. और वही इंदौर में आबोहवा रात में कुछ हद तक ठीक रही मगर शुक्रवार की सुबह 6 बजे के बाद करीब 2 घंटे तक स्थितियां बिगड़ी. जिसके चलते PM 2.5 की संख्या हवा में बढ़ गई और लोगों को सांस लेने में मुश्किलें भी हुई.

अन्य खबरें