MP के पूर्व CM दिग्विजय सिंह ने उठाई युवा मुख्यमंत्री की मांग, अरुण यादव की ओर इशारा

Haimendra Singh, Last updated: Fri, 18th Feb 2022, 2:14 PM IST
  • कांग्रेस नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह बयान की चर्चाएं हो रही है जिसमें कहते है कि मजकिया अंदाज में कहते नजर आ रहे है कि हमारा तो काम हो गया, अब ये (अरुण यादव की ओर इशारा करते हुए ) नए लड़के हैं. इस बयान को दिग्विजय और कमलनाथ के रिश्तों से जोड़कर देखा जा रहा है.
दिग्विजय सिंह.( फाइल फोटो)

भोपाल. मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने पार्टी की ओर से  युवा सीएम की मांग को उठाया है. दिग्विजय सिंह के इस बयान के राजनीतिक मतलब निकाले जा रहे है. गुरुवार को खंडवा में दिग्विजय सिंह एक दरगाह पर चादर चढ़ाने गए थे जहां उनके पूर्व केंद्रीय मंत्री व पूर्व पीसीसी अध्यक्ष अरुण यादव भी मौजूद थे. वहां  उन्हें दोबारा मुख्यमंत्री बनने के लेकर दुआ मांगने की सवालों को जवाब देते हुए कहा, कि हमारा तो काम हो गया, अब ये (अरुण यादव की ओर इशारा ) नए लड़के हैं. पूर्व मुख्यमंत्री इस मजाकिया बयान के काफी मतलब निकाले जा रहे हैं.

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बयान के बाद राजनीतिक माहौल हलचल शुरू हो गई है. लोग इससे दिग्विजय सिंह और कमलनाथ के रिश्तों से भी जोड़कर देख रहे है. क्योकि वह कांग्रेस की महत्वपूर्ण बैठक के बजाय निमाड़ के दौरे पर गए थे. राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि पॉलिटिक्स में मजाकिया बातों का भी कुछ न कुछ मतलब होता है. बता दें कि 2018 में कांग्रेस ने मध्य प्रदेश में सत्ता में वापसी की. जिसमें मुख्यमंत्री कमलनाथ तो बन गए. इसमें मिलकर सरकार चलाने का फैसला हुआ, जिसके कारण सरकार के समीकरण बैठाने में सीनियर और जूनियर मंत्रियों के बीच के अंतर को खत्म कर दिया गया और सभी नेताओं को कैबिनेट मंत्री का दर्जा देने की कोशिश की गई. इसमें दिग्विजय सिंह की विशेष भूमिका बताई गई. हालांकि कमलनाथ सरकार 15 महीने ही चल पाई.

हिजाब विवाद पर बोलीं प्रज्ञा ठाकुर- जो लोग अपने घरों में सुरक्षित नहीं वो पहनें हिजाब

एक तीर से दो निशाने साधने का प्रयास

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के मजाकिया बयान के बाद राजनीतिक विशेषज्ञों में चर्चा है कि उन्होंने एक तीर दो निशाने मारने का प्रयास किया है. अपने बयान साफ कर दिया है कि ज्यादा उम्र के नेताओं को सीएम बनाने के पक्ष में नहीं हैं. वहीं लोगों इससे कमलनाथ की तरफ इशारा मान रहे है.

अन्य खबरें