MP Higher Education: हिंदी भाषा की ओर बढ़ा रुझान, 35 हजार विद्यार्थियों ने हिंदी को मुख्य विषय के रूप में चुना

Somya Sri, Last updated: Mon, 4th Oct 2021, 10:52 AM IST
  • नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत मध्य प्रदेश में स्नातक कर रहे विद्यार्थियों ने हिंदी भाषा को मुख्य विषय के रूप में चुना है. इसके बाद इतिहास विषय को 26 हजार विद्यार्थियों ने चुना है. वहीं राजनीति शास्त्र को 19 हजार विद्यार्थियों ने मुख्य विषय के रूप में लिया है. तो वहीं अंग्रेजी विषय को केवल 4 हजार विद्यार्थियों ने ही मुख्य विषय के रूप में चुना है.
MP Higher Education: हिंदी भाषा की ओर बढ़ा रुझान, 35 हजार विद्यार्थियों ने हिंदी को मुख्य विषय के रूप में चुना

भोपाल: नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत मध्य प्रदेश में स्नातक कर रहे विद्यार्थियों ने हिंदी भाषा को मुख्य विषय के रूप में चुना है. इसके बाद इतिहास विषय को 26 हजार विद्यार्थियों ने चुना है. वहीं राजनीति शास्त्र को 19 हजार विद्यार्थियों ने मुख्य विषय के रूप में लिया है. तो वहीं अंग्रेजी विषय को केवल 4 हजार विद्यार्थियों ने ही मुख्य विषय के रूप में चुना है. बताया जा रहा है कि एमपीपीएससी के मुख्य परीक्षा में हिंदी के दो प्रश्न पत्र अनिवार्य होते हैं. इस कारण भी विद्यार्थियों का हिंदी को मुख्य विषय के रूप में चुनने को लेकर रुझान बढ़ा है.

मिली जानकारी के मुताबिक पहले विद्यार्थी यूजी के किसी भी महत्वपूर्ण तीन विषयों में से किसी एक में पीजी कर सकते थे. लेकिन नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत अब यूजी जिस मुख्य विषय से होगा, उसी में पीजी करना अनिवार्य होगा. इस कारण भी विद्यार्थियों के बीच हिंदी पसंदीदा विषय बना हुआ है. इधर साइंस डिपार्टमेंट में बॉटनी विषय को मुख्य विषय के रूप में 30 हजार विद्यार्थियों ने चुना है. वहीं गणित में 14 हजार, रसायन शास्त्र को 10 हजार विद्यार्थियों ने मुख्य विषय के तौर पर लिया है. साइंस डिपार्टमेंट में भौतिकी विषय को मुख्य विषय के रूप में सबसे कम 1600 विद्यार्थियों ने ही चुना है.

MP की 'टॉयलेट एक प्रेमकथा', ससुराल में नहीं था शौचालय पत्नी ने उठाया ये कदम...

जानकारी के मुताबिक हिंदी को मुख्य विषय के रूप में 35808 विद्यार्थियों ने चुना है. इतिहास को 26039, राजनीति शास्त्र को 19339, भूगोल को 11561, समाजशास्त्र को 5778, अंग्रेजी को 4062 विद्यार्थियों ने मुख्य विषय के तौर पर चुना है. वहीं विज्ञान संकाय में वनस्पति शास्त्र को 30329, गणित को 14151, रसायन शास्त्र को 10434, प्राणी शास्त्र को 6754, बायोटेक्नोलाजी को 3954, भौतिक शास्त्र को 1603, कंप्यूटर साइंस को 5601 विद्यार्थियों ने मुख्य विषय के तौर पर चुना है. वहीं वाणिज्य संकाय में अर्थशास्त्र को 22014 और सांख्‍यिकी में 23 विद्यार्थियों ने मुख्य विषय के रूप में चुना है.

अन्य खबरें