अब महिलाओं संग साये की तरह रहेगी एमपी पुलिस, ऐसे रखी जाएगी पैनी नजर

Deepakshi Sharma, Last updated: Sun, 19th Sep 2021, 6:59 AM IST
  • एमपी पुलिस अब महिलाओं और लड़कियों की सुरक्षा शानदार तरीके से करने वाली है. एमपी पुलिस वॉच मी टिल सेफ डिस्टेंस नाम के खास फीचर की मदद से महिलाओं के साथ उनके साये की तरह रहने वाली है. वो उनके ऊपर तब तक निगरानी रखेगी जब तक की महिला अब सुरक्षित स्थान पर न पहुंच जाएं.
एक खास फीचर के जरिए एमपी पुलिस करेगी महिलाओं की सुरक्षा

भोपाल. अब मध्य प्रदेश की महिलाओं और लड़कियों को किसी भी तरह से डरने की जरूरत है, क्योंकि अब एमपी पुलिस उनकी सुरक्षा के लिए उनके साथ साये की तरह रहने वाली है. एमपी पुलिस ने अपने ऐप को अपडेट किया है. ऐप को सीधा 100 नंबर से जोड़ने का काम किया गया है. प में मौजूद इस नए फीचर के जरिए महिलाएं बिना पुलिस को मौके पर बुलाए भी अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने का काम करेंगी. डायल 100 के कंट्रोल रूम से तब तक महिला की निगरानी की जाएगी जब तक की वह अपनी जगह सुरक्षित न पहुंच जाए. इस नए फीचर को शुरू होने में करीब 1 महीने का वक्त लग सकता है.

इसके अंदर वॉच मी टिल सेफ डिस्टेंस नाम का खास फीचर है. महिलाएं उस फीचर का इस्तेमाल कर खुद को सुरक्षित कर सकती है. महिलाएं उस वक्त इस फीचर का इस्तेमाल कर सकेंगी जब वे खुदी की निगरानी करना चाहती हैं, लेकिन पुलिस को वो मौके पर नहीं बुलाना चाहती. ऐसे में इस फीचर के जरिए उन्हें काफी मदद मिल सकती है.

अब कुत्ते-बिल्ली की तरह तेंदुआ, अजगर, भालू, मगरमच्छ भी ले सकेंगे गोद, बस इतना पैसा...

ऐसे काम करेगा ये ऐप

एडीजी दूरसंचार एसके झा ने अपनी बात रखते हुए बताया कि वॉच मी टिल सेफ डिस्टेंस से हर उस महिला की मदद की जा सकेगी, जोकि रास्ते से जा रही हैं, वहां पर खतरा मौजूद है. इस फीचर का इस्तेमालक करते ही महिला का फोन नंबर डायल-100 के कंट्रोल रूम तक पहुंच जाएगा. एप और मोबाइल के जरिए महिला की लोकेशन कंट्रोल रूम को आसानी से पता लगती रहेगी. महिला का यदि रूट अलग होता है. वो किसी जगह पर ज्यादा देर तक रुकती है या फिर निर्धारित अवधि में दूरी तय नहीं होती तो ऐसे में महिला से संपर्क किया जाएगा. संपर्क हो जाने के बाद भी महिला पर निगरानी बनी रहेगी. लेकिन फोन नहीं उठाने पर पुलिस बिना देरी करें उस जगह पहुंच जाएगी. साथ ही निगरानी रखने के लिए सीसीटीवी कैमरे की भी मदद ली जाएगी. साथ ही एक पाइंट से अगली पाइंट पर खड़ी डायल 100 को भी इस बारे में जानकारी दी जाएगी. महिला के जगह पर पहुंचने के बाद निगरानी बंद हो जाएगी.

देवघर: 148 दिन बाद भक्तों के लिए खुले बाबा बैद्यनाथ मंदिर के द्वार, दर्शन के लिए बनवाना होगा ई-पास

अभी करना होगा थोड़ा इंतजार

एडीजी एसके झा ने बताया कि इस ऐप को तैयार करने से पहले देश में महिला अपराध पर स्टडी की जाएगी. फीचर को सेलेक्ट करते ही कुछ ही वक्त में ऑडियो और वोडियो फोन में रिकॉर्ड हो जाएगा. कई बार महिलाएं जगह के बारे में बताने में असमर्थ रहती है, इस स्थिति में रिकॉर्डिंग के जरिए घटना को समझने में मदद मिलेगी. झा ने इस बात की भी जानकारी दी कि डायल 100 के लिए नए टेंडर भी होने है. आम जनता के लिए अभी इसे लॉन्च नहीं किया गया है. पुलिस की आंतरिक व्यवस्था के अंतर्गत इस ऐप का परीक्षण शुरू कर दिया गया है. जल्द ही इसे आम नागरिकों के लिए शुरू कर दिया जाएगा.

अन्य खबरें