MPPSC Result: परीक्षा नियमों में संशोधन को रद्द करने की प्रक्रिया पूरी, जनवरी में आ सकता है रिजल्ट

ABHINAV AZAD, Last updated: Thu, 16th Dec 2021, 5:01 PM IST
  • MPPSC परीक्षा नियमों में संशोधन को रद्द करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार मेरिट में आएंगे, फिर उन्हें गैर-आरक्षित श्रेणी में शामिल किया जाएगा. ऐसा माना जा रहा है कि जनवरी माह में परीक्षा का परिणाम जारी कर दिया जाएगा.
(प्रतीकात्मक फोटो)

भोपाल. एमपीपीएससी परीक्षा नियमों में संशोधन को रद्द करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है. शिवराज सरकार ने हाईकोर्ट को इस बात से अवगत करवा दिया है. अब इसे कैबिनेट में जगह देनी है. दरअसल, इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार मेरिट में आएंगे. फिर उन्हें गैर-आरक्षित श्रेणी में शामिल किया जाएगा. इससे पहले राज्य सरकार ने हाईकोर्ट को सूचित किया था कि एमपीपीएससी परीक्षा नियमों में संशोधन को रद्द करने की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है.

इस बीच मुख्य न्यायाधीश रवि मलीमठ और न्यायमूर्ति विजय शुक्ला की पीठ ने सरकार से प्रक्रिया पूरी करने के लिए एक सप्ताह का समय मांगा है. अब कोर्ट ने अगली सुनवाई के लिए 22 दिसंबर की तारीख मुकर्रर की है. साथ ही मामले में कर्मचारी संघ एपेक्स समेत कुल 47 याचिकाएं दायर की गई हैं. दरअसल, दायक याचिका में कई बातों का उल्लेख किया गया है.

MPPSC Recruitment : कंप्यूटर प्रोग्रामर बनने का सुनहरा मौका, जानें योग्यता संबंधी पूरी डिटेल

दरअसल, याचिकाओं में कहा गया है कि परीक्षा नियमों में संशोधन कर गैर-आरक्षित श्रेणी में मेरिट में आने वाले उम्मीदवारों को आरक्षित वर्ग में शामिल नहीं करने का प्रावधान किया गया है. जबकि यह कोई सामान्य नियम नहीं है. इस बीच वरिष्ठ अधिवक्ता विवेक तन्खा और अधिवक्ता रामेश्वर सिंह ठाकुर ने तर्क दिया कि इससे पीएससी परीक्षाओं में आरक्षण बढ़कर 113 फीसदी हो गया है. बताते चलें कि शिवराज सरकार ने हाईकोर्ट को इस बात से अवगत करवा दिया है. अब इसे कैबिनेट में जगह देनी है. दरअसल, इस प्रक्रिया के पूरा होने के बाद आरक्षित वर्ग के उम्मीदवार मेरिट में आएंगे. फिर उन्हें गैर-आरक्षित श्रेणी में शामिल किया जाएगा. मुख्य न्यायाधीश रवि मलीमठ और न्यायमूर्ति विजय शुक्ला की पीठ ने सरकार से प्रक्रिया पूरी करने के लिए एक सप्ताह का समय मांगा है. साथ ही अब अगली सुनवाई 22 दिसंबर को होगी.

अन्य खबरें