MP: होशंगाबाद रेलवे स्टेशन पर लगाया गया नर्मदापुरम का स्टीकर 48 घंटे बाद हटा

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Thu, 10th Feb 2022, 8:12 PM IST
  • मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की तरफ से जारी आधिकारिक आदेश के बाद होशंगाबाद रेलवे स्टेशन के साइन बोर्ड पर परिवर्तित नाम नर्मदापुरम का स्टीकर लगाया गया. मगर इस बदले गए नाम को दो दिन बाद ही हटा लिया गया. दरअसल केंद्र सरकार के अधीन जितने भी विभाग आते हैं उन तक ये आदेश अभी नहीं पहुंच पाया है.
दो दिन बाद ही हटाया गया होशंगाबाद रेलवे स्टेशन पर लगा नर्मदापुरम नाम का स्टीकर

भोपाल. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तरफ से जारी आधिकारिक आदेश के बाद होशंगाबाद रेलवे स्टेशन के साइन बोर्ड पर परिवर्तित नाम नर्मदापुरम का स्टीकर दो दिन पहले ही लगाया गया था. मगर अब इस बदले गए नाम से लगे साइन बोर्ड को दो दिन बाद ही हटा लिया गया. दरअसल केंद्र सरकार के अधीन जितने भी विभाग आते हैं उन तक अभी भारत सरकार की तरफ से इससे जुड़ा आदेश नहीं मिला है.

सीएम शिवराज चौहान ने नर्मदा जयंती के मौके पर जल मंच से होशंगाबाद का नाम बदलकर नर्मदापुरम किए जाने की आधिकारिक घोषणा कर दी थी, लेकिन केंद्र सरकार के अधीन आने वाले संबंधित विभागों के पास इससे जुड़ा आदेश नहीं पहुंचा है. यहीं कारण है कि अभी भी केंद्रीय विभागों के तहत आने वाले इन मुख्यालयों पर होशंगाबाद का नाम नहीं बदला गया है.

पत्रकार राणा अय्यूब को रेप और जान से मारने की धमकी देने वाला भोपाल से अरेस्ट

हालांकि दो दिन पहले होशंगाबाद रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर लगे डायमंड बोर्ड पर बदले गए नाम नर्मदापुरम की साइन बोर्ड जरुर लगाई गई मगर 48 घंटे बाद ही उस स्टीकर को साइन बोर्ड से हटा दिया गया. वहीं मप्र शासन के अधीन आने वाले सरकारी कार्यालयों में बदले गए नाम नर्मदापुरम चलन हो चला है. शहर के कॉलोनियों और निजी संस्था के संचालकों ने भी नर्मदापुरम के नाम से बोर्ड बनवाकर लगा दिया है.

बता दें कि मप्र सरकार के ऐलान के बाद अधिसूचना जारी होते ही होशंगाबाद रेलवे स्टेशन के डायमंड बोर्ड पर नर्मदापुरम लिखा गया था. मगर केन्द्र सरकार की तरफ से आदेश अभी तक न मिलने के कारण फिलहाल डायमंड साइन बोर्ड ढक दिया गया है. बताया जा रहा है कि रेलवे बोर्ड की तरफ से स्टेशन का नाम और कोड बदले जाने पर इसका परिवर्तित नाम स्वीकार्य हो सकेगा. इस पर वाणिज्य अधिकारी अनिता बृजेश ने बताया कि आदेश आने के बाद रेलवे स्टेशन का नाम और कोड बदला जाएगा.

डाक विभाग में बदलेगी मुद्रा सील 

रेलवे विभाग के आलावा जिले के डाक विभाग में भी अभी तक नाम बदल जाने काे लेकर परिमंडल की तरफ से आदेश नहीं मिला है. बदले नाम से संबंधित केन्द्र की तरफ से आदेश मिलने के बाद ही होशंगाबाद की जगह नर्मदापुरम नाम पर काम किया जाएगा. डाक विभाग के लिए ये एक अहम तकनीकी पहलू भी है. बताया जा रहा है कि डाक विभाग के पास मुद्रा सील भी परिमंडल से बनकर आती है. स्थानीय स्तर पर नाम और व्यवस्था में काेई बदलाव नहीं किया जा सकता है.

अन्य खबरें