बिरसा मुंडा सम्मेलन में भाग लेने सोमवार को भोपाल आएंगे PM मोदी, 23 करोड़ खर्च करेगी शिवराज सरकार

Haimendra Singh, Last updated: Sat, 13th Nov 2021, 1:38 PM IST
  • पीएम नरेंद्र मोदी 15 नवंबर को भोपाल आ रहे है. बिरसा मुंडा जनजाति महासम्मेलन में हिस्सा लेंगे. इसके बाद पीएम मोदी पीपीपी मॉडल पर बने हबीबगंज रेलवे स्टेशन का उद्घाटन भी करेंगे. पीएम मोदी की यात्रा पर शिवराज सिंह सरकार 23 करोड़ रुपए से ज्यादा खर्च कर रही है.
15 नवंबर को भोपाल आएंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.( फाइल फोटो )

भोपाल. भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) भगवान बिरसा मुंडा जनजाति सम्मेलन(Bhagwan Birsa Munda Tribe Program) में शामिल होने के लिए सोमवार यानि 15 नवंबर को मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल आ रहे हैं. कार्यक्रम के लिए राजधानी के जंबूरी मैदान में मंच को तैयार किया गया है. इस कार्यक्रम 2 लाख से ज्यादा लोगों को आने की उम्मीद है. इसके अलावा पीएम मोदी पीपीपी मॉडल पर बने हबीबगंज रेलवे स्टेशन(Habibganj Railway Station) का उद्घाटन भी करेंगे. पीएम मोदी के इस दौरे पर मध्य प्रदेश की शिवराज सिंह सरकार करीब 23 करोड़ रुपए खर्च करेंगी. जानकारी के अनुसार, पीएम मोदी 4 घंटों तक भोपाल में रहेंगे.

मीडिया में चल रही रिपोर्ट के अनुसार, पीएम मोदी की भोपाल यात्रा में सुरक्षा के लिहाज से सरकार ने 30 वरिष्ठ अधिकारियों का लगाया है, वहीं इस चार घंटे की यात्रा में पीएम की सुरक्षा में 5000 से ज्यादा पुलिसवाले तैनात रहेंगे. कार्यक्रम में देखते हुए मध्य प्रदेश पुलिस ने शहर के सभी होटल, लॉज और ठहरने के स्थानों की जांच शुरू कर दी है. वहीं शहर में पुलिस 24 घंटे मॉनिटरिंग कर रही है.

बीजेपी MP प्रज्ञा सिंह ठाकुर की मांग, अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर हो हबीबगंज स्टेशन का नाम

बिरसा मुंडा सम्मेलन में भाग लेने के बाद पीएम मोदी पीपीपी मॉडल पर बने हबीबगंज रेलवे स्टेशन का उद्घाटन करेंगे. जानकारी के अनुसार के अनुसार, इस रेलवे स्टेशन का पुनर्निर्माण जर्मनी के हीडलबर्ग रेलवे स्‍टेशन की तर्ज पर करने का दावा है. हबीबगंज रेलवे स्टेशन में मध्यप्रदेश के पर्यटन एवं दर्शनीय स्थलों, जैसे भोजपुर मंदिर, सांची स्तूप, भीमबैठिका, के चित्र प्रदर्शित किए जाएंगे.

एक न्यूज चैनल के अनुसार, बिरसा मुंडा जनजाति शामिल होने के लिए करीब 13 करोड़ रुपए सिर्फ 52 जिलों से लोगों को जंबूरी मैदान में लाने ले जाने और खाने पीने पर ही खर्च किए जा रहे है. आदिवासियों को सिर्फ जंबूरी मैदान लाने के लिए किया जाएगा.

अन्य खबरें