Durga Ashtami 2022: पौष मास दुर्गाष्टमी आज, जानें पूजा विधि, मुहूर्त और महत्व

Pallawi Kumari, Last updated: Mon, 10th Jan 2022, 9:05 AM IST
  • हिंदू धर्म में हर महीने की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मां दुर्गा की पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है. आज 10 जनवरी को भक्त पौष मासिक दुर्गाष्टमी का व्रत रखेंगे. आइये जानते हैं इसकी पूजा विधि, मुहूर्त और महत्व के बारे में.
मासिक दुर्गाष्टमी

हिंदू धर्म में हर माह दो अष्टमी शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि पड़ती है. इसमें शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को मासिक दुर्गाष्टमी का व्रत रखा जाता है. मासिक दुर्गाष्टमी मां दुर्गा को समर्पित होता है. इस दिन मां दुर्गा की विधि- विधान से विशेष पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है. वैसे तो हर महीने की शुक्ल पक्ष अष्टमी को मां दुर्गा की खास पूजा की जाती है लेकिन पौष मास में पड़ने वाले मासिक दुर्गाष्टमी का विशेष महत्व होता है. आज सोमवार 10 जनवरी 2022 को मास दुर्गाष्टमी की पूजा की जाएगी. आइए जानते हैं कैसे करें आज मासिक दुर्गाष्टमी पर मां दुर्गा की पूजा क्या है इसका शुभ मुहूर्त और महत्व.

मासिक दु्र्गाष्टमी महत्व-

पौष महीने की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि में पड़ने वाली दुर्गा अष्टमी का विशेष महत्व होता है. पौष मास में शीत ऋतु होने के साथ ही सूर्यदेव की भी विशेष आराधना की जाती है. शास्त्रों में अष्टमी तिथि पर देवी की पूजा करने से मनवांछित फल प्राप्ति की बात कही गई है. कहा जाता है कि पौष महीने अगर देवी की पूजा की जाए तो व्यक्ति की सभी परेशानियां दूर हो जाती है. इसलिए हिंदू धर्म में शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि पर दुर्गा अष्टमी का व्रत रखा जाता है.

Putrada Ekadashi 2022: इस कहानी के बिना अधूरी है पुत्रदा एकादशी, जानें व्रत कथा

दुर्गाष्टमी पूजा विधि-

आज सुबह जल्दी उठकर स्नान करें और साफ कपड़े पहनें. पूजा मंदिर में गंगाजल से उस जगह की शुद्धि करें. घर के मंदिर में दीप जलाएं और व्रत का संकल्प लें. मां दुर्गा का भी गंगा जल से अभिषेक करें.

मां की प्रतिमा या फोटो पर अक्षत, सिन्दूर और लाल पुष्प अर्पित चढ़ाएं. प्रसाद के रूप में फल और मिठाई का भोग लगाएं. इसके बाद धूप, दीपक और अगबत्ती जलाकर दुर्गा चालीसा का पाठ करें. पूजा के आखिर में मां दुर्गा की आरती करें. आज संभव हो तो व्रत रखें और नमक का सेवन न करें.

मासिक दुर्गाष्टमी पूजा मुहूर्त-

पौष माह, शुक्ल अष्टमी प्रारम्भ - 9 जनवरी सुबह 11:08 बजे से

पौष माह, शुक्ल अष्टमी समाप्त - 10 जनवरी दोपहर 12:24 तक

Makar Sankranti 2022: मकर संक्रांति पर अपनों को भेंजे ये Best संदेश, पर्व बन जाएगा खास

अन्य खबरें