देहरादून के फिलेशिप नशा मुक्ति केंद्र पर मजिस्ट्रेट की रेड, कई कमियों के बाद बंद कराने का फैसला

ABHINAV AZAD, Last updated: Fri, 24th Sep 2021, 9:53 AM IST
  • स रेड के दौरान सिटी मजिस्ट्रेट ने पाया कि 14 वर्ष के किशोर को भी केंद्र में रखा जा रहा है. पूछताछ में पता चला कि वह नशा नहीं करता है. लेकिन बावजूद नियमों के खिलाफ नाना ने यहां भर्ती करा दिया.
(प्रतीकात्मक फोटो)

देहरादून. इनलाइटमेंट फिलेशिप नशा मुक्ति केंद्र पर छापेमारी के दौरान बड़ा खुलासा हुआ है. नशा छुड़ाने के नाम पर चल रहे यह नशा मुक्ति केन्द्र की स्थिति यातना गृह जैसी है. टीम ने अपनी अपनी छापेमारी के दौरान पाया कि महज एक हॉल में 54 व्यक्तियों को भेड़-बकरियों की तरह ठूंस कर रखा जा रहा है. सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान की अगुवाई में यह कार्रवाई हुई. इस रेड के दौरान सिटी मजिस्ट्रेट ने पाया कि 14 वर्ष के किशोर को भी केंद्र में रखा जा रहा है. पूछताछ में पता चला कि वह नशा नहीं करता है.

सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान को किशोर ने बताया कि वह नशा नहीं करता है, लेकिन बावजूद नियमों के खिलाफ नाना ने यहां भर्ती करा दिया. साथ ही केन्द्र के रिकार्ड में भी इस बात को खंगाला गया तो पता चला कि किशोर नशा नहीं करता है. तहकीकात के दौरान महज इस बात की पुष्टि हुई कि वह गुस्सैल है. मतलब उस किशोर के गुस्सैल होने के वजह से यहां भेज दिया गया. साथ ही जांच टीम ने पाया कि यहां कई व्यक्ति ऐसे थे जिसका कोई ब्योरा नहीं रखा जा रहा था. जबकि स्वास्थ्य व सफाई व्यवस्था के इंतजाम भी ठीक नहीं थे. केंद्र में वेंटिलेशन की भी कमी पाई गई. मसलन, प्रशासन ने इस नशा मुक्ति केंद्र को बंद कराने का निर्णय लिया है.

Uttarakhand Election: अक्टूबर में बढ़ेगा सियासी पारा, PM मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और राजनाथ सिंह का दौरा

नशा मुक्ति केंद्र में महज गुस्सैल स्वभाव के कारण किशोर को रखने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. दरअसल, प्रशासन ने इसे गंभीर मसला माना है. साथ ही इसे बाल अधिकारों के हनन से भी जोड़कर देखा जा रहा है. सिटी मजिस्ट्रेट कुश्म चौहान के मुताबिक, समाज कल्याण विभाग के अधिकारियों को मामले में सख्त कार्रवाई का आदेश दिया गया है. साथ ही उन्होंने कहा कि किशोर की काउंसिलिंग कराई जाए और पता लगाया जाए कि उसके वास्तविक अभिभावक कहां हैं. बता दें कि अगस्त में क्लेमेनटाउन स्थित वाक एंड विन सोवर लिविंग होम एंड काउंसिलिंग सेंटर से चार युवतियां भाग गई थीं. बाद में जांच के दौरान पता चला कि नशा मुक्ति केंद्र का संचालक एक युवती के साथ दुष्कर्म करता था, जबकि अन्य युवतियों ने उस पर छेड़छाड़ का आरोप लगाया था.

अन्य खबरें