यशपाल आर्य के इस्तीफे के बाद कैबिनेट में खाली सीट पर सीएम पुष्कर धामी ने कहा...

Somya Sri, Last updated: Sat, 16th Oct 2021, 5:36 PM IST
  • बाजपुर विधायक यशपाल आर्य के इस्तीफे के बाद कैबिनेट में एक सीट खाली है. जिसपर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि, "सभी विभागों को जहां जाना था वहां पहुंच चुके हैं." उनके इस बयान के बाद अटकलें तेज हो गई हैं कि सीएम पुष्कर धामी रिक्त पड़ी मंत्री पद को भरने के मूड में नहीं हैं. वहीं यशपाल आर्य के साथ उनके बेटे और विधायक संजीव आर्य और राज्य मंत्री हरेंद्र लाहड़ी ने भाजपा का साथ छोड़ कांग्रेस का दामन थम लिया है.
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी. (फोटो साभार- फेसबुक पुष्कर सिंह धामी)

देहरादून: बाजपुर विधायक यशपाल आर्य के इस्तीफे के बाद कैबिनेट में एक सीट खाली है. जिसपर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने एक बड़ा बयान दिया है. उत्तराखंड जन विकास सहकारी समिति की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में रिक्त पड़ी कैबिनेट सीट पर उन्होंने कहा कि, "सभी विभागों को जहां जाना था वहां पहुंच चुके हैं." उनके इस बयान के बाद अटकलें तेज हो गई हैं कि क्या सीएम पुष्कर धामी रिक्त पड़ी मंत्री पद को को भरने के मूड में नहीं हैं.

गौरतलब है कि साल 2017 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले यशपाल आर्य ने 11 अक्टूबर को कांग्रेस पार्टी का दामन थाम लिया था. यशपाल आर्य उधमसिंह नगर की बाजपुर सीट से विधायक और मौजूदा की भाजपा सरकार में थे. यशपाल आर्य के साथ उनके बेटे और विधायक संजीव आर्य और राज्य मंत्री हरेंद्र लाहड़ी ने भी कांग्रेस का दामन थम लिया था.

उत्तराखंड आप प्रभारी का दावा, कहा- 20 नवंबर को 70 विधानसभाओं पर प्रत्याशी घोषित करेगी पार्टी

यशपाल आर्य के बीजेपी छोड़ते ही ये बातें सामने आने लगी थी कि वे काफी समय से भाजपा से नाराज चल रहे थे. कहा जाता है कि यशपाल आर्य को मनाने के लिए सीएम पुष्कर सिंह धामी ने भी काफी कोशिश की थी. यशपाल आर्य 6 बार विधायक रह चुके हैं वहीं सालों तक उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भी रहे हैं. उन्हें कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला, पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत सहित कांग्रेस के कई नेताओं ने भाजपा का दामन छोड़ कांग्रेस में शामिल होने के लिए शुभकामनाएं दी थी.

कांग्रेस में शामिल होने के बाद यशपाल आर्य ने कहा था कि," आज फिर से मैं अपने कांग्रेस परिवार में शामिल हो रहा हूं. आज का दिन मेरे लिए सबसे सुखद दिन है. चालीस साल तक मैंने अपना सफर कांग्रेस के साथ तय किया है. कांग्रेस को उत्तराखंड में फिर स्थापित करूंगा. कांग्रेस अगर मजबूत होगी तो लोकतंत्र भी मजबूत होगा."

अन्य खबरें