उत्तराखंड में बारिश का कहर, 16 लोगों की मौत, यूपी के काफी पर्यटक फंसे

Uttam Kumar, Last updated: Tue, 19th Oct 2021, 2:45 PM IST
उत्तराखंड में दो दिनों की बारिश के चलते कई इलाकों में आपदा की स्थिति बनी हुई है. राज्य के मुख्यमंत्री खुद मोर्चे संभाल रहे हैं. अब तक की जानकारी के अनुसार अलग – अलग क्षेत्रों में 16 लोगों की मौत हुई है. कई यात्री भी फंसें हुए हैं. एसडीआरफ(SDRF) की टीम भी लगातार रेस्क्यू ऑपरेसन चला रही है.
उत्तराखंड में दो दिनों की बारिश के चलते कई इलाकों में आपदा की स्थिति उत्पन्न हो गई है. फाइल फोटो

देहरादून. उत्तराखंड में दो दिनों से हो रही बारिश के चलती बाढ़ जैसे हालात उत्पन्न हो गए हैं. बारिश के चलते  कई इलाकों में आपदा की स्थिति बनी हुई है. राज्य के मुख्यमंत्री खुद मोर्चे संभालने में लगे हुए हैं. सीएम पुष्कर सिंह धामी सचिवालय स्थित आपदा कंट्रोल रूम पहुंचे और नुकसान की जानकारी ली. साथ ही अधिकारियों और जिलाधिकारियों से लगातार अपडेट ले रहे हैं. मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को निर्देश दिया है कि किसी भी प्रकार की आपदा की स्थिति में रिस्पांस टाइम कम से कम हो. यात्रियों को किसी तरह की असुविधा न हो. 

दरअसल उत्तराखंड में दो दिन से जारी बारिश ने एक बार फिर से सड़कों को बड़े पैमाने पर नुकसान पहुंचाया है. जगह-जगह भूस्खलन और भूधंसाव के कारण सड़कों पर मलबा आ गया है. प्रदेश में पांच राष्ट्रीय राजमार्ग, सात स्टेट हाईवे सहित सैकड़ों ग्रामीण मोटर मार्ग बाधित हो गए हैं. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शीघ्र सड़कों को खोलने के निर्देश जारी किया है. मौसम विभाग के पूर्वानुमान के साथ ही राज्य सरकार सहित प्रशासन पहले से मुस्तैद है. एसडीआरफ की टीम भी लगातार रेस्क्यू ऑपरेसन चला रही है.

बद्रीनाथ, केदारनाथ समेत चारों धामों में लगातार बर्फबारी, यात्रिओं को दी गई ये सलाह

खबर लिखे जाने तक की जानकारी के अनुसार बारिश के चलते कुमाऊं में मलबे में दबकर अभी तक सात लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं मंगलवार सुबह नैनीताल जिले के रामगढ़ में धारी तहसील में दोषापानी और तिशापानी में बादल फट गया. इस दौरान मजदूरों की झोपड़ी पर रिटेनिंग दीवार गिर गई. जिसमें सात लोग मलबे में दब गए. दो लोगों की शव बरामद किया जा चुका है. अन्य लोगों की तलाशी के लिए एसडीआरफ की टीम बचाव कार्य चला रही है.

गरमपानी इलाके में करीब 30 घर क्षतिग्रस्त हो गए हैं. केदारनाथ और गौरीकुंड के बीच भी 22 यात्रियों के फसें होने की सूचना पर एसडीआरफ ने सभी का रेस्क्यू कर लिया है. गंगोत्री में 29 ट्रैकर फसें होने की सूचना मिलने पर एसडीआरफ की टीम रेस्क्यू के रवाना हो चुकी है. एसडीआरफ की टीम अब तक 550 लोगों को रेस्क्यू कर चुकी है. लेकिन बारिश के कारण कई रास्ते बंद होने के चलते रेस्क्यू टीम कई इलाकों में नहीं पहुंच पा रही है. 

 

अन्य खबरें