मौसम विभाग का अनुमान अगले 24 घंटे में उत्तराखंड में हो सकती है बारिश, अलर्ट जारी

Uttam Kumar, Last updated: Sat, 23rd Oct 2021, 12:13 PM IST
मौसम विभाग के अगले 24 घंटे में उत्तराखंड के देहरादून, उत्तरकाशी,  हरिद्वार, नैनीताल और चंपावत में तेज गर्जना के साथ हल्की बारिश हो सकती है. मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ और दक्षिणी-पूर्वी हवाओं का प्रभाव राज्य में बिल्कुल खत्म हो गया है. अब राज्य में भारी बारिश के कोई आसार नहीं है. 
 अगले 24 घंटे में उत्तराखंड के कुछ जिलों में तेज गर्जना के साथ हल्की बारिश हो सकती है. प्रतिकात्मक तस्वीर

देहरादून. उत्तराखंड में बीते कुछ दिनों से पश्चिमी विक्षोभ की अत्यधिक सक्रियता और दक्षिणी-पूर्वी हवाओं के दबाव के चलते मौसम का मिजाज बदल गया था. मौसम विभाग के ताजा जानकारी के अनुसार उत्तराखंड में मौसम आज फिर करवट बदल सकता है. अगले 24 घंटे में उत्तराखंड के देहरादून, उत्तरकाशी,  हरिद्वार,  नैनीताल और चंपावत में तेज गर्जना के साथ हल्की बारिश होने की संभावना जताई है. श्रद्धालुओं और वहाँ के निवासियों के लिए राहत कि बात है कि मौसम विभाग ने कहा है कि फिलहाल राज्य में भारी बारिश होने की कोई संभावना नहीं है. 

मौसम विभाग के जानकारी के अनुसार आज राजधानी देहरादून में आंशिक रूप से बादल छाए रहेंगे. शनिवार देर शाम या रात में कुछ स्थानों पर तेज गर्जना के साथ हल्की बारिश होने की संभावना है. बीते कुछ दिनों से पश्चिमी विक्षोभ की अत्यधिक सक्रियता और दक्षिणी-पूर्वी हवाओं के दबाव के चलते राज्य के कई इलाके में रिकॉर्ड तोड़ मूसलाधार बारिश हुई थी. कुमाऊं क्षेत्र में आपदा जैसे स्तिथि उत्पन्न होने से 50 से अधिक लोगों की मौत हो गई.  साथ ही करोड़ों की संपत्तियों का नुकसान हो गया. अब मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार पश्चिमी विक्षोभ और दक्षिणी-पूर्वी हवाओं का प्रभाव राज्य में बिल्कुल खत्म हो गया है. अब राज्य में भारी बारिश के कोई आसार नहीं है. 

देहरादून DM की पहल, कोरोना का टीका लगवाएं, ईनाम में स्कूटी-टीवी और फ्रिज पाएं

जानकीचट्टी पुलिस चौकी प्रभारी गंभीर तोमर के अनुसार यमुनोत्री हाईवे के साथ ही यमुनोत्री पैदल मार्ग पर आवाजाही सुचारू रूप से हो रही है. सुबह से 400 श्रद्धालुओं ने यमुनोत्री धाम पहुंचकर मां यमुना के दर्शन कर लिए हैं. वहीं हेमकुंड साहिब ट्रस्ट के उपाध्यक्ष नरेंद्रजीत सिंह बिंद्रा के अनुसार हेमकुंड साहिब में इस सीजन की पहली बर्फबारी के बाद दो फीट तक बर्फ जम गई है. हेमकुंड साहिब के कपाट बीते 10 अक्तूबर को बंद हो गए थे. बर्फबारी के बाद मौसम सामान्य होने पर हेमकुंड साहिब के प्राकृतिक सौंदर्य में निखार आ गया है. 

पढ़ाई में कमजोर छात्र भी CBSE बोर्ड एग्जाम में ला सकेंगे अच्छे मार्क्स, जानिए कैसे 

वहीं मलारी हाईवे आज लगातार छठे दिन भी वाहनों की आवाजाही के लिए नहीं खुल पाया. 18, 19 अक्टूबर को अतिवृष्टि से मलारी हाईवे कई जगहों पर क्षतिग्रस्त हो गया था. बीआरओ कमांडर कर्नल मनीष कपिल के अनुसार मलारी हाईवे को 26 अक्टूबर तक वाहनों की आवाजाही के लिए खोल दिया जाएगा. अभी तमकनाला तक हाईवे सुचारु कर दिया गया है. इसके आगे कई जगहों पर हाईवे ध्वस्त पड़ा है. जिसे खोलने के लिए 15 मशीनें और करीब सौ मजदूर लगाए गए हैं. कई जगहों पर सड़क भी ध्वस्त हो चुकी है.  जिससे यहां हिल कटिंग कार्य करना पड़ रहा है.

 

अन्य खबरें