त्रिशूल चोटी आरोहण के दौरान नेवी अफसर अनंत कुकरेती शहीद, तीन माह पहले हुई थी शादी

ABHINAV AZAD, Last updated: Mon, 4th Oct 2021, 11:14 AM IST
  • त्रिशूल चोटी आरोहण के दौरान हिमस्खलन की चपेट में आने से लेफ्टिनेंट कमांडर अनंत कुकरेती शहीद हो गए. 
(प्रतीकात्मक फोटो)

देहरादून. त्रिशूल चोटी आरोहण के दौरान हिमस्खलन की चपेट में आने से कई लोगों की मौत हो गई. इस दल में लेफ्टिनेंट कमांडर अनंत कुकरेती भी शामिल थे. वह राजधानी देहरादून के रहने वाले थे. तीन माह पहले ही उनकी शादी हुई थी. उनकी मौत की खबर के बाद देहरादून के जोगीवाला, नत्थनपुर गंगोत्री विहार कॉलोनी स्थित घर पर मातम का माहौल है. सोमवार सुबह तकरीबन दस बजे पार्थिव शरीर घर पर लाया जाएगा. हरिद्वार में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

शहीद लेफ्टिनेंट कमांडर अनंत कुकरेती के चचेरे भाई राजेन्द्र कुकरेती ने बताया कि उन्हें शनिवार रात इस बात की जानकारी मिली. परिजन और रिश्तेदार घर पहुंच गए हैं. उन्होंने आगे बताया कि शहीद अनंत के पिता जगदीश प्रसाद कुकरेती वन विभाग में रेंज ऑफिसर के पद से रिटायर्ड हैं. अनंती की पत्नी राधा और भाई अखिल मुंबई में रहते हैं. रविवार को पूरा परिवार मुंबई से देहरादून पहुंच गया है. शहीद के घर मातम का मौहाल है. माता-पिता के साथ घर में मौजूद सभी लोग गहरे सदमे में हैं. परिजनों और रिश्तेदारों के आने का सिलसिला जारी है.

देहरादून में जुटे हजारों मुस्लिम, कहा- उन्हें इजाजत दी जाए तो लाहौर में तिरंगा फहरा देंगे

मिली जानकारी के मुताबिक, शहीद अनंत कुकरेती की शादी तीन माह पहले हुई थी. लॉकडाउन के चलते शादी समारोह में सीमित मेहमानों को ही बुलाया गया था. वह अपनी शादी के दौरान अंतिम दफा अपने घर आए थे. शहीद अनंत ने आरआईएमसी से पास आउट होकर एनडीए परीक्षा पास की और इंडियन नेवी में सिलेक्ट हुए. अनंत कुकरेती की पत्नी राधा मुंबई में एसबीआई में ऑफिसर है. इस हादसे की जानकारी मिलने के बाद से वह गहरे सदमे में हैं.

अन्य खबरें