केदारनाथ पहुंचे पूर्व CM त्रिवेंद्र को तीर्थ-पुरोहितों ने दिखाए काले झंडे, बिना दर्शन वापस लौटे

Nawab Ali, Last updated: Mon, 1st Nov 2021, 2:24 PM IST
  • उत्तराखंड में देवस्थानम बोर्ड का एक बार फिर से तीर्थ-पुरोहितों ने विरोध शुरू कर दिया है. केदारनाथ धाम में दर्शन के लिए केदारपुरी पहुंचे पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को तीर्थ-पुरोहितों का जबरदस्त विरोध किया. विरोध के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत को बिना दर्शन करे ही वापस लौटना पड़ा. 
केदारनाथ में तीर्थ-पुरोहितों ने पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का विरोध किया. फोटो सोशल मीडिया

देहरादून. उत्तराखंड में देवस्थानम बोर्ड सरकार के गले की फांस बनता जा रहा है. केदारनाथ धाम में बाबा के दर्शन करने पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को तीर्थ-पुरोहितों का भारी विरोध झेलना पड़ा. जिसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को केदारनाथ धाम के बिना दर्शन ही वापस लौटना पड़ा. तीर्थ-पुरोहितों ने त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. नारेबाजी करते हुए तीर्थ-पुरोहितों ने पूर्व सीएम को हिंदू विरोधी बताया. पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के कार्यकाल के दौरान देवस्थानम बोर्ड का गठन किया गया था. सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के साथ देहरादून के मेयर सुनियल उनियाल गामा भी केदारनाथ पहुंचे थे.

उत्तराखंड में देवस्थानम बोर्ड के कारण तीर्थ-पुरोहित भाजपा सरकार का पुरजोर विरोध कर रहे हैं. मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने के बाद पुष्कर सिंह धामी ने भी देवस्थानम बोर्ड को लेकर विचार करने की बात कही थी. आज पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत केदारनाथ के दर्शन करने केदारपुरी पहुंचे थे. बाबा केदारनाथ के दर्शन करने से पहले ही तीर्थ-पुरोहितों ने प्रदर्शन करते हुए उनका रास्ता रोक लिया और आक्रोशित होकर नारेबाजी करने लगे. तीर्थ-पुरोहितों ने त्रिवेंद्र रावत वापस जाओ के जमकर नारे लगाए. काफी कोशिशों के बाद त्रिवेंद्र रावत को केदारनाथ धाम के दर्शन नहीं करने दिए गए. अंत में पूर्व सीएम त्रिवेंद्र को बिना दर्शन करे ही लौटना पड़ा.

हरीश रावत की सैनिक वोटरों पर नजर, कहा- 20 फीसदी सीटों पर पूर्व सैनिकों को तरजीह

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सरकार ने तीर्थ-पुरोहितों को 30 अक्टूबर तक का समय दिया था लेकिन आज 1 नवंबर होने के बाद उन्होंने फिर से विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दिया. मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देवस्थानम बोर्ड को भंग करने का आश्वासन दिया था. आपको बता दें की 5 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी केदारनाथ दर्शन के लिए जा सकते हैं. यहां वो दर्शन करने के बाद केदारनाथ पुनर्निर्माण के कार्यों ला जायजा लेंगे.

 

अन्य खबरें