जब पश्चिम में सभ्यता का सूर्य उदित नहीं हुआ, तब हमारे यहां रच दी गई वेदों की ऋचाएंः CM शिवराज

Shubham Bajpai, Last updated: Thu, 2nd Dec 2021, 3:18 PM IST
  • मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान एक दिन के दौरे पर हरिद्वार पहुंचे. सीएम शिवराज शांतिकुंज स्वर्ण जयंती कार्यक्रम में शामिल हुए. कार्यक्रम के दौरान उन्होंने भारत की संस्कृति और इतिहास पर संबोधन दिया. इस दौरान सीएम शिवराज ने सीएम पुष्कर सिंह धामी से भी मुलाकात की.
जब पश्चिम में सभ्यता का सूर्य उदित नहीं हुआ, तब हमारे यहां रच दी गई वेदों की ऋचाएंः CM शिवराज (फोटो सभार ट्विटर)

देहरादून. मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान गुरुवार को हरिद्वार पहुंचे. सीएम शिवराज देव संस्कृति विश्वविद्यालय में आचार्य श्री राम शर्मा शांतिकुंज स्वर्ण जयंती वर्ष के मौके पर आयोजित व्याख्यानमाला में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए. शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि हम अत्यंत प्राचीन व महान राष्ट्र भारत के निवासी है. जिसका 5 साल का तो ज्ञात इतिहास है.

जब पश्चिमी देशों में सभ्यता का सूर्य उदित नहीं हुआ था तब हमारे यहां वेदों की ऋचाएं रच दी गईं थीं. इस दौरान सीएम शिवराज ने उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से भी मुलाकात की.

नहीं होना होगा परेशान, नए राशन कार्ड से भी बनेगा आयुष्मान कार्ड, जानिए पूरी डिटेल्स

हम प्राचीन और महान राष्ट्र के नागरिक जो था विश्व गुरु

सीएम शिवराज ने कार्यक्रम संबोधित करते हुए कहा कि हमें बचपन से अद्भुत संस्कार दिए जाते रहे हैं. जब गांव में कथा होती थी तो पंडित जी कहते थे कि धर्म की जय हो, अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भाव हो विश्व का कल्याण हो. हम ऐसे प्राचीन और महान राष्ट्र के नागरिक हैं तो विश्व गुरु था. जब पश्चिम के लोग अपने शरीर को पेड़ों के पत्तों व छालों से ढकते थे तब हमारे यहां तक्षशिला व नालंदा जैसे विद्यालय थे.

सही दिशा में करना होगा राष्ट्र नव निर्माण

सीएम शिवराज ने हरिद्वार के एक दिवसीय दौरे के दौरान देव संस्कृति विश्वविद्यालय में कहा कि राष्ट्र के पुनर्निर्माण, राष्ट्र का नव निर्माण सही दिशा में करना होगा. जिसके लिए देशभक्त, परिश्रमी, चरित्रवान और परोपकारी लोग चाहिए.

देहरादून: PM मोदी की रैली में गोर्खाली और पहाड़ी टोपी में नजर आएगी जनता

जानकारी अनुसार, इस एक दिवसीय दौरे में सीएम शिवराज सिंह चौहान योग गुरू स्वामी रामदेव और बालकृष्ण से भी मिलेंगे. शाम को श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि के साथ संध्याकालीन गंगा आरती में भी शामिल होंगे. 3 दिसंबर को वो कनखल स्थिति हरिहर आश्रम में पौधोरोपण और धार्मिक अनुष्ठान करेंगे और दोपहर को भोपाल निकल जाएंगे.

अन्य खबरें