नैनीताल का टूर और महंगा, होटल हो या टैक्सी, एंट्री फीस हो या पार्किंग, सबका रेट बढ़ा

Sumit Rajak, Last updated: Tue, 21st Sep 2021, 6:56 PM IST
उत्तराखंड के पसंदीदा हिल स्‍टेशन नैनीताल में घूमना, खाना-पीना और महंगा हो गया है. नैनीताल के होटल, रेस्‍टोरेंट के साथ ही रोप-वे सवारी तक पर्यटकोंको अब 20 से 30 फीसदी अधिक खर्च करना होगा. पर्यटक स्थलों की सैर कराने वाली टैक्सी का किराया भी 300 से 400 रुपए तक बढ़ गया है. केव गार्डन में एंट्री फीस के लिए 60 रुपए के बदले 100 रुपए देने होंगे.
फाइल फोटोःहिल स्‍टेशन नैनीताल

देहरादूनः कोरोना वायरस महामारी अभी खत्‍म नहीं हुई और इस बीच आम लोगों के लिए एक और बड़ी समस्‍या आ खड़ी हुई है. बढ़ती महंगाई ने आम लोगों की जेब ढीली करनी शुरू कर दी है. हाल के दिनों में गैस, पेट्रोल, डीजल के साथ सब्जियां, खाद्य तेल से लेकर हर चीज  की कीमतों में रिकॉर्ड इजाफा देखने को मिला रहा है.मंहगाई की अब पर्यटक स्थलों पर भी नजर आने लगा है. देश के पसंदीदा हिल स्‍टेशनों में नैनीताल में घूमना और खाना-पीना अब महंगा हो गया है. बढ़ती महंगाई के कारण होटल और रेस्तरां में खाना-पीना, रोप-वे की सवारी तक के लिए पर्यटकों को 20 से 30 फीसदी तक अधिक रुपए खर्च करने होंगे. पर्यटक स्थलों की सैर कराने वाली टैक्सी सेवा के किराये में अब 300 से 400 रुपए तक बढ़ गया है. झील दर्शन का पैकेज भी चार हजार रुपये तक पहुंच गया है.केव गार्डन में एंट्री फीस के लिए 60 रुपए के बदले 100 रुपए देने होंगे.

 

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों ने आम आदमी की मुसीबत बन गया है. पहले नैनीताल दर्शन के लिए 1200 से 1400 रुपए देने होते थे, लेकिन पेट्रोल-डीजल के बढ़ते किमतों से टेक्सी चालक 1800 से 2200 रुपये तक भी वसूल रहे हैं. साथ ही कुमाऊं मंडल विकास निगम ने नैनीताल से स्नो व्यू तक रोप-वे का किराया 230 रुपए से बढ़ाकर 300 रुपए कर दिया है. केव गार्डन घूमने के लिए 60 रुपए के 100 रुपये हो गया है.

VIP हो या अधिकारी, अब मसूरी माल रोड पर नहीं जाएगी आपकी गाड़ी, उल्लंघन किया तो...

 

 रेस्‍टोरेंट संचासलकों ने कहा कि गैस, पेट्रोल, डीजल के साथ साथ  सब्जियों,रसोई  तेलों के दाम काफी बढ़ गया है. ऐसे में दाम बढ़ाना हमारी मजबूरी है. वहीं नैनीताल टूर एंड टैक्‍सी एसोसिएशन के अध्‍यक्ष नीरज जोशी ने कहा कि हम पर्यटकों को सस्‍ती सेवाएं उपलब्‍ध हों, लेकिन पेट्रोलियम पदार्थों,खाने की वस्तू के दामों में बेतहाशा बढ़ोतरी के बाद किराया बढ़ाना हमारी मजबूरी हो गई है.  पर्यटकों के लिए राहत की बात ये है कि नैनीताल के होटलों में कमरों के किराए में 2019 के बाद से नहीं बढ़ा है.

उत्तराखंड में फिर दो हफ्ते बढ़ी कोविड कर्फ्यू, जानिए 5 अक्टूबर तक प्रदेश में क्या होंगे कोरोना गाइडलाइन

 

अन्य खबरें