Corona Virus: उत्तराखंड में 16 जनवरी तक राजनीतिक रैलियों और धरनों पर पाबंदी

ABHINAV AZAD, Last updated: Sat, 8th Jan 2022, 1:04 PM IST
  • कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए धामी सरकार ने उत्तराखंड में राजनीतिक रैलियों, धरनों और प्रदशनों पर 16 जनवरी तक रोक लगा दी है.
(प्रतीकात्मक फोटो)

देहरादून. (भाषा) उत्तराखंड में कोरोना वायरस संक्रमण तेजी से फैल रहा है. इस बीच राज्य की धामी सरकार ने कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए उत्तराखंड में राजनीतिक रैलियों पर 16 जनवरी तक रोक लगा दी है. साथ ही धरनों और प्रदशनों पर भी पाबंदी रहेगी.

यहां शुक्रवार रात जारी ताजा दिशा-निर्देशों में प्रदेश के मुख्य सचिव एसएस संधु ने कहा कि 16 जनवरी तक सभी राजनीतिक रैलियां, धरना, प्रदर्शन तथ सांस्कृतिक समारोह जैसे अन्य सार्वजनिक कार्यक्रम स्थगित रहेंगे. ये दिशा-निर्देश रविवार से लागू होंगे.

उत्तराखंड चुनाव: AAP ने जारी की 24 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट, अजय कोठियाल को गंगोत्री से टिकट

उत्तराखंड उच्च न्यायालय ने हाल में निर्वाचन आयोग से इन संभावनाओं के बारे में देखने को कहा था क्या चुनावी रैलियां डिजिटल हो सकती हैं और क्या मतदान ऑनलाइन कराया जा सकता है.

प्रदेश में आगामी कुछ सप्ताह में विधानसभा चुनाव होना है और निर्वाचन आयोग जल्द ही इसके लिए तारीखों की घोषणा कर सकता है.

देश के ज्यादातर अन्य हिस्सों की तरह उत्तराखंड में भी लगातार कोविड 19 के मामलों में वृद्धि हो रही है जहां शुक्रवार को कई महीनों के बाद एक दिन में सर्वाधिक 800 से ज्यादा नए मरीजों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई.

नए आदेशों के अनुसार, आंगनवाड़ी केंद्रों और 12वीं तक के स्कूलों के अलावा इस अवधि के दौरान तरणताल और वाटर पार्क जैसी सुविधाएं भी बंद रहेंगी. हालांकि, जिम, शॉपिंग मॉल, सिनेमा हॉल, स्पा, सैलून, मनोरंजन पार्क, थियेटर और प्रेक्षागृह आदि 50 प्रतिशत क्षमता ​के साथ खुलेंगे.

इस दौरान रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक रात्रि कर्फ्यू जारी रहेगा. इस दौरान हालांकि कोविड प्रोटोकॉल के सख्त अनुपालन के साथ जरूरी और आपातकालीन सेवाएं जारी रहेंगी.

बाहर से उत्तराखंड आने वाले लोगों के लिए कोविड रोधी टीके की दोनों खुराकों का प्रमाणपत्र या 72 घंटे पूर्व की निगेटिव आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा.

अन्य खबरें