हरीश रावत ने याद की 2017 की हार, कहा- कांग्रेस की सत्ता में वापसी से मिटाना है ये कलंक

Shubham Bajpai, Last updated: Sun, 2nd Jan 2022, 12:51 PM IST
  • उत्तराखंड चुनाव से पहले पूर्व सीएम हरीश रावत ने 2017 चुनाव को याद करते हुए एक भावुक पोस्ट लिखा. जिसमें उन्होंने हार को कलंक बताकर उसे मिटाने की बात कही. कांग्रेस नेता रावत ने लिखा कि यदि कांग्रेस सत्ता में वापसी करती है तो उनका ये कलंक मिट जाएगा. 
हरीश रावत ने याद की 2017 की हार, कहा- कांग्रेस की सत्ता में वापसी से मिटाना ये कलंक

देहरादून. उत्तराखंड चुनाव 2022 को लेकर सभी पार्टियां जोर अजमाईश में लगी हुई हैं. भाजपा के कद्दावर नेताओं की राज्य में लगातार रैली और सभाएं हो रही है. इस बीच पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता हरीश रावत ने एक भावुक पोस्ट कर सबको हैरान कर दिया. पोस्ट में हरीश रावत ने 2017 की हार को याद करते हुए उसे खुद के लिए कलंक बताया और जनता से अपील की यदि इस बार कांग्रेस सत्ता में वापसी करती है तो ये कलंक मिट जाएगा.

कुछ गलतियां की जिसका जनता ने दिया दंड

2012 से 2017 के अपने कार्यकाल को याद करते हुए हरीश रावत ने पोस्ट में लिखा कि उन्होंने अपने कार्यकाल में कुछ गलतियां की थी. जिनका उन्हें जनता ने दंड दिया.

चौहरा हत्याकांड: एक ही परिवार के चार लोगों की हत्या, पहले चाकू से गला रेता फिर..

2022 उनके सियासी जीवन के साथ जुड़े हुए अवसाद को धोने का मौका

हरीश रावत ने अपने आधिकारिक फेसबुक पेज से लिखा कि साल 2022 में उनके सियासी जीवन के साथ जुड़े हर साल 2017 के अवसादपूर्ण अध्याय को धोने का मौका है. मैंने कुछ गलतियां की, जिनका जनता ने दंड दिया. मैंने हौसला नहीं छोड़ा और अगले ही दिन से लोगों के भरोसा को जीतने के लिए फिर से जुट गया. आज नतीजे सार्थक नजर आ रहे हैं. उत्तराखंड के लोग सरकार में बदलाव लाने के लिए उत्सुक नजर आ रही है, कांग्रेस कार्यकर्ताओं में जोश है.

कुछ साथी अकल्पनीय हालात तक दंड देने को तैयार

कांग्रेस नेता रावत ने आगे लिखा कि पराजय में आप मान-सम्मान गंवाने के साथ कभी-कभी मित्रों को भी गंवा देते हैं. काफी सारे व्यक्तियों ने पराजय के बाद साथ छोड़ दिया. आज भी कुछ साथी अकल्पनीय हालात तक दंड देने को तैयार हैं. 

उत्तराखंड को जल जीवन मिशन के तहत मोदी सरकार ने जारी किए 361 करोड़

हरीश ने प्रदेश की भाजपा सरकार को लेकर कहा कि जब प्रदेश के लोग उन पर गुस्सा हुए तो उन्हें दंड मिला, मगर प्रदेश को एक अक्षम सरकार मिली. अब प्रदेश के लोगों से उत्तराखंडियत की रक्षा के लिए फिर से साथ देने का आग्रह किया है.

 

अन्य खबरें