उत्तराखंड चुनाव: कांग्रेस संगठन से नाराज हरीश रावत! कहा- मेरे हाथ पांव बांध रहे

Smart News Team, Last updated: Wed, 22nd Dec 2021, 4:20 PM IST
  •  उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव 2022 से पहले पूर्व सीएम हरीश रावत ने कांग्रेस संगठन के प्रति नाराजगी जाहिर की है. उनके ट्वीट से राजनीतिक गलियारों में हलचल मच गई है. रावत ने कहा कि जिनके आदेशों से उन्हें काम करना है, उनके नुमाइंदे हाथ पांव बांध रहे हैं. बहुत तैर लिए, अब विश्राम का समय है.
 उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत (फाइल फोटो)

देहरादून: उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में बड़ी हलचल हुई है. पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कांग्रेस आलाकमान के प्रति नाराजगी जाहिर की है. उन्होंने मंगलवार को एक साथ 3 ट्वीट किए, जिनमें उनका दर्द छलका. रावत ने लिखा कि जिस चुनाव रूपी समंदर में जिनके आदेश से तैरना है, उनके नुमाइंदे मेरे हाथ-पांव बांध रहे हैं. मन में विचार आ रहा है कि बहुत हो गया, अब विश्राम का समय है.

हरीश रावत ने ट्वीट कर लिखा, "है न अजीब सी बात, चुनाव रूपी समुद्र को तैरना है, सहयोग के लिए संगठन का ढांचा अधिकांश स्थानों पर सहयोग का हाथ आगे बढ़ाने के बजाय या तो मुंह फेर करके खड़ा हो जा रहा है या नकारात्मक भूमिका निभा रहा है. जिस समुद्र में तैरना है, सत्ता ने वहां कई मगरमच्छ छोड़ रखे हैं. जिनके आदेश पर तैरना है, उनके नुमाइंदे मेरे हाथ-पांव बांध रहे हैं. मन में बहुत बार विचार आ रहा है कि हरीश रावत अब बहुत हो गया, बहुत तैर लिये, अब विश्राम का समय है! फिर चुपके से मन के एक कोने से आवाज उठ रही है "न दैन्यं न पलायनम्". बड़ी उहापोह की स्थिति में हूं, नया वर्ष शायद रास्ता दिखा दे. मुझे विश्वास है कि भगवान केदारनाथ इस स्थिति में मेरा मार्गदर्शन करेंगे।"

कांग्रेस जीती तो युवाओं को नौकरी मिलने तक हर महीने देंगे 5 हजार: हरीश रावत

उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले हरीश रावत के इस बयान से सियासी महकमे में हलचल मच गई है. हालांकि हरीश रावत ने अपने ट्वीट में किसी का नाम नहीं लिया, मगर उनका इशारा साफ तौर पर आलाकमान की तरफ है. वे कांग्रेस संगठन की नीतियों से खुश नहीं हैं. उन्होंने ये तक कह दिया कि वे कुछ भी कदम नहीं उठा पा रहे हैं, क्योंकि उनके हाथ-पांव बांधे जा रहे हैं. ऐसे में सवाल उठता है कि आखिर कौन उन्हें काम नहीं करने दे रहा है. हालांकि उत्तराखंड में चुनाव प्रचार की कमान पूरी तरह उनके हाथों में ही है.

अन्य खबरें