देहरादून के शक्तिमान घोड़ा केस में मंत्री गणेश जोशी बरी, BJP बोली- माफी मांगें हरीश रावत

Nawab Ali, Last updated: Thu, 23rd Sep 2021, 8:21 PM IST
  • उत्तराखंड के चर्चित शक्तिमान घोड़े की मौत के मामले में कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी और चार अन्य लोगों को देहरादून कोर्ट ने बरी कर दिया है. गणेश जोशी के खिलाफ सबूतों की कमी और गवाहों के बयानों के आधार पर मामले से कोर्ट ने बरी किया है. उत्तराखंड भाजपा का कहना है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री हरीश रावत को इस मामले पर माफी मांगनी चाहिए.
शक्तिमान घोड़े की मौत से पहले  मंत्री गणेश जोशी और भाजपा कार्यकर्ता विधानसभा के समय. (फाइल फोटो)

देहरादून. उत्तराखंड की हरीश रावत सरकार के दौरान चर्चित शक्तिमान घोड़े की मौत मामले में आरोपी मौजूदा कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी व अन्य चार लोगों को देहरादून कोर्ट ने बरी कर दिया है. 2016 में शक्तिमान घोड़े की मौत के मामले में गणेश जोशी समेत चार लोगों के खिलाफ देहरादून के नेहरु कॉलोनी थाने में मुकदमा दर्ज किया गया था. 2016 में बजट सत्र के दौरान भाजपा ने विधानसभा घेराव किया था. गणेश जोशी व अन्य कार्यकर्ता बेरिकेडिंग तोड़कर विधानसभा की ओर जाने लगे इस दौरान देहरादून पुलिस के घुड़सवार दस्ते द्वारा कर्यकर्ताओं से भिड़ंत में शक्तिमान घोड़ा घायल हो गया था जिसकी इलाज के दौरान मौत हो गई थी.

उत्तराखंड भाजपा की सरकार में कैबनेट मंत्री गणेश जोशी को चर्चित शक्तिमान घोड़े की मौत में देहरादून कोर्ट ने दोषमुक्त कर दिया है. साल 2016 में हरीश रावत सरकार ने के दौरान भाजपा ने बजट सत्र के दौरान भारी तादाद में विधानसभा घेराव किया था. पुलिस द्वारा भाजपा कार्यकर्ताओं को रिस्पना पुल पर बेरिकेडिंग लगाकर रोक दिया था जिसके बाद गणेश जोशी और भाजपा कार्यकर्ताओं ने बेरिकेडिंग तोड़कर विधानसभा की ओर जाने की कोशिश की थी इस दौरान देहरादून पुलिस के घुड़सवार दस्ते ने कार्यकर्ताओं की भीड़ को रोकने की प्रयास किया जिसमें घोड़ा शक्तिमान घायल हो गया था. घुड़सवार दस्ते और गणेश जोशी की भिड़ंत की एक तस्वीर उस वक्त खूब चर्चा का विषय रही जिसमें गणेश जोशी शक्तिमान घोड़े की तरफ लाठी से वार करते नजर आ रहे थे.

CM धामी का ऐलान- उत्तराखंड 12वीं बोर्ड के टॉप 100 को 5 साल सरकारी स्कॉलरशिप

मामले में दोषमुक्त होने पर गणेश जोशी ने कहा है कि मैं शुरू से ही कहता आ रहा हूं कि शक्तिमान घोड़े की मौत के मामले में दोषी नहीं हूं जिस पर आज कोर्ट ने मुहर लगा दी है. उत्तराखंड भाजपा उपाध्यक्ष देवेन्द्र भसीन ने कहा है कि हरीश रावत की तत्कालीन सरकार ने गणेश जोशी को एक साजिश के तहत आरोपी बनाया था उन्हें अब इस मामले पर माफी मांगनी चाहिए. गणेश जोशी के मामले में दोषमुक्त होने पर उत्तराखंड कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा है कि गणेश जोशी पर कोर्ट के फैसले का सम्मान किया जाना चाहिए इस मामले में माफी मांगने का कोई सवाल ही नहीं उठता है. उस वक्त की तस्वीरें और मीडिया रिपोर्ट को पूरे देश ने देखा है.

धर्म से ऊपर मानवता को मान सुषमा और सुल्ताना ने पेश की नई मिसाल, एक-दूसरे के पति को किडनी दे बचाई उनकी जान

हालांकि शक्तिमान घोड़े के मामले में प्रदेश में 2017 में भाजपा की सरकार आने पर गणेश जोशी से केस हटाने की चर्चा हुई थी लेकिन कुछ तकनिकी तथ्यों के कारण यह संभव नहीं हो पाया है. शक्तिमान घोड़े की याद में देहरादून की पुलिस लाइन में एक प्रतिमा स्थापित की गई साथ ही पुलिस लाइन पेट्रोल पंप का नाम भी शक्तिमान घोड़े के नाम पर रखा गया. 

 

अन्य खबरें