Diwali Puja Muhurt: देहरादून, दुर्ग, पिथौरागढ़, ऋषिकेश, हरिद्वार, नैनीताल दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

Deepakshi Sharma, Last updated: Thu, 4th Nov 2021, 3:47 PM IST
  • 4 नवंबर को पूरे देशभर में दिवाली (Diwali 2021) का त्योहार मनाया जाने वाला है. इस दिन मां लक्ष्मी की पूजा करने का विशेष प्रावधान है. ऐसे में जानिए इस दिवाली 2021 पर उत्तराखंड की राजधानी देहरादून सहित हरिद्वार, ऋषिकेश, नैनीताल और पिथौरागढ़ समेत छत्तीसगढ़ के रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, बस्तर और चंपारण में क्या है लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त.
देहरादून, दुर्ग, पिथौरागढ़, ऋषिकेश, हरिद्वार, नैनीताल दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

देहरादून. हिंदू धर्म में दिवाली या फिर दिपावली (Diwali 2021) का त्योहार एक प्रमुख पर्व में से एक माना जाता है. इस दिन खासतौर पर मां लक्ष्मी, भगवान गणेश और देवी सरस्वती के साथ-साथ महाकाली की भी पूजा पूरी श्रद्धा के साथ की जाती है. हर साल कार्तिक मास की अमावस्या की तिथि को ये पर्व मनाया जाता है. दिवाली पर पूजन प्रदोष काल में ही होता है. वैसे कहा जाता है कि पूजा यदि शुभ मुहूर्त में कर ली जाए तो उसका लाभ दोगुना मिलता है. ऐसे में आइए जानते हैं इस दिवाली 2021 उत्तराखंड की राजधानी देहरादून सहित हरिद्वार, ऋषिकेश, नैनीताल और पिथौरागढ़ समेत छत्तीसगढ़ के रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, बस्तर और चंपारण में क्या है लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त.

उत्तराखंड में प्रदोष काल के दौरान लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त शहरों के हिसाब से कुछ इस तरह से है-

देहरादून- 6:02 PM से लेकर 7:57 PM

हरिद्वार- 6:03PM से लेकर 7:57 PM

Diwali Puja Muhurt: जयपुर, अजमेर, उदयपुर, कोटा, भोपाल, इंदौर, जबलपुर दिवाली लक्ष्मी पूजा शुभ मुहूर्त

ऋषिकेश- 6: 02 PM से लेकर 7:56 PM

नैनीताल- 5:58 PM से लेकर 7: 54PM

पिथौरागढ़- 5: 55PM से लेकर 7:50 PM

छत्तीसगढ़ में प्रदोष काल के दौरान लक्ष्मी पूजा का शुभ मुहूर्त शहरों के हिसाब से कुछ इस तरह से है-

रायपुर- 6:02PM से लेकर 7:57 PM

बिलासपुर- 6:00PM से लेकर 7:56PM

दुर्ग- 6:05PM से लेकर 8:00PM

चंपारण- 6:05PM से लेकर 8:00PM

Diwali 2021: मां लक्ष्मी को सबसे ज्यादा पसंद है कमल का फूल, दिवाली पर गणेश-लक्ष्मी पूजन में जरूर करें शामिल

इस बात का ध्यान रहें कि दिवाली पूजा करते वक्त भगवान गणेश का आवाहन करने के दौरान ''वक्रतुण्ड महाकाय सूर्यकोटि समप्रभ। निर्विघ्नं कुरु मे देव सर्वकार्येषु सर्वदा॥ इस मंत्र का उच्चारण आपको करते रहना चाहिए.

अन्य खबरें