कंगना के बयान पर फिर बवाल, गांधी को बताया सत्ता का भूखा और चालक, कांग्रेस ने कराई FIR

Swati Gautam, Last updated: Wed, 17th Nov 2021, 10:54 AM IST
  • एक्ट्रेस कंगना रनौत के एक और विवादित बयान पर बवाल हो गया है. इस बार कंगना ने महात्मा गांधी पर बयान देते हुए कहा कि गांधी सत्ता के भूखे और चालाक लोग थे. ये वही थे जिन्होंने हमें सिखाया कोई तुम्हें एक गाल पर थप्पड़ मारे तो उसके आगे दूसरा गाल कर दो और इस तरह तुमको आजादी मिल जाएगी. इस तरह से आजादी नहीं सिर्फ भीख मिलती है. कंगना के इस बयान पर जयपुर में कांग्रेस नेता ने शिकायत दर्ज कराई है.
कंगना के बयान पर फिर बवाल, गांधी को बताया सत्ता का भूखा और चालक, कांग्रेस ने कराई FIR. file photo

फेमस बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत अपने काम से ज्यादा अपनी बयानबाजी को लेकर चर्चा में रहती हैं. कंगना का "1947 में मिली आज़ादी भीख थी, असली आज़ादी 2014 में मिली" वाले विवादित बयान का बवाल अभी शांत नहीं हुआ था कि कंगना ने इस बार राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को निशाना बनाते हुए उन पर विवादित बयान दे डाला. इस बार कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर पर दो लंबे मैसेज किए हैं. जिसमें पहली पोस्ट में अखबार की एक पुरानी कटिंग लगाते कंगना ने लिखा है कि या तो आप गांधी के फैन हो सकते हैं या नेताजी के समर्थक. इतना ही नहीं कंगना ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर महात्मा गांधी को सत्ता का भूखा और चालाक बताने तक की हिमाकत कर दी. जिसे लेकर कंगना के खिलाफ जयपुर में कांग्रेस नेता ने शिकायत दर्ज कराई है.

कंगना रनौत को हाल ही में पद्म श्री से सम्मानित किया गया था जिसके बाद से कंगना ने हिंदुस्तान, उसके इतिहास उसकी आजादी को लेकर जो लगातार विवादित बयान दिए हैं. कंगना पर अभी तक पहले भी कई FIR दर्ज हो चुकी है और गांधी जी वाले बयान पर एक और एफआईआर उनके खिलाफ दर्ज की जा चुकी है. बता दें कि कंगना ने अपनी इंस्टा स्टोरी पर लिखा कि स्वतंत्रता के लिए लड़ने वालों को उन लोगों ने अपने मालिकों को सौंप दिया, जिनमें अपने ऊपर अत्याचार करने वालों से लड़ने की ना तो हिम्मत थी ना ही खून में उबाल. ये सत्ता के भूखे और चालाक लोग थे. ये वही थे जिन्होंने हमें सिखाया अगर कोई तुम्हें एक गाल पर थप्पड़ मारे तो उसके आगे दूसरा गाल कर दो और इस तरह तुमको आजादी मिल जाएगी. इस तरह से आजादी नहीं सिर्फ भीख मिलती है. अपने हीरो समझदारी से चुनें.

आयुष शर्मा को था भाई-भतीजावाद का डर, सलमान के साथ नहीं करना चाहते थे Antim में काम

अपनी दूसरे पोस्ट में कंगना रानौत ने लिखा कि गांधी जी चाहते थे भगत सिंह को फांसी हो. गांधी ने कभी भगत सिंह और नेताजी को सपोर्ट नहीं किया. कई सबूत हैं जो इशारा करते हैं कि गांधीजी चाहते थे कि भगत सिंह को फांसी हो जाए. इसलिए आपको चुनना है कि आप किसके समर्थन में हैं, क्योंकि उन सबको अपनी यादों में एक साथ रख लेना और हर साल उनकी जयंती पर याद कर लेना ही काफी नहीं है. सच कहें तो ये महज मूर्खता नहीं बल्कि बेहद गैरजिम्मेदाराना और सतही है. लोगों को अपना इतिहास और अपने हीरो पता होने चाहिए.

अन्य खबरें