लक्ष्मी में ट्रांसजेडर की भूमिका निभाने वाले शरद केलकर ने कह डाली ये बात

Smart News Team, Last updated: Fri, 13th Nov 2020, 12:22 PM IST
  • फिल्म लक्ष्मी में शरद केलकर ने ट्रांसजेंडर का किरदार बखूबी निभाया हैं जो लोगो को काफी हैं. शरद ने अपने इंटरव्यू में अपनी फिल्म में अपने किरदार मिलने से लेकर उनकी सोच को बदलने तक की बात कही हैं. शरद ने अपने इंटरव्यू में ट्रांसजेंडर लोगो के प्रति विचार बदलने को कहा हैं. 
शरद केलकर का खुलासा

टीवी एक्टर शरद केलकर का नाम टीवी का सबसे मंझे हुए अभिनेता हैं. उन्होंने अपनी करियर की शुरुवात टीवी सीरियल से किया था. आज वो हर घर में अपनी पहचान चुके हैं. अभी हाल में ही अक्षय कुमार की फिल्म लक्ष्मी रिलीज़ हुई हैं. जिसमे शरद केलकर ने ट्रांसजेंडर का रोल निभाया हैं. जो लोगो को बहुत पसंद आया हैं. शरद ने अपने फिल्म करने के अनुभव को अपने एक ई टाइम्स के एक इंटरव्यू मैं हैं. वो आगे कहते हैं की इस फिल्म ने उनके नजरिये को भी हैं. शरद ने कहा की इस फिल्म में उनका अनुभव काफी अच्छा रहा है. 

अक्षय कुमार के साथ उनकी ये दूसरी फिल्म हैं. वो अपनी फिल्म और में आगे बताते हैं की उनकी फिल्म लक्ष्मी के निर्माता एक अभिनेता को ढूंढ रहे थे. लेकिन ये स्टोरी सुनकर अभिनेताओं ने मना कर दिए. कुछ निर्माताओं ने भी यह स्टोरी सुनकर मना कर दिया. फिर अक्षय कुमार ने उनका नाम निर्माता के सामने रखा. राघव लॉरेंस से अपनी पहली मुलाकात का जिक्र करते हुए शरद ने कहा की जब शरद को उन्होंने इस रोल के लिए फाइनल किया तो राघव ने सीधे उनको तैयार होने के लिए कहा उस रोल के कपड़े पहनकर यह सुनकर शरद को थोड़ा अजीब लगा पर वो तैयार हो गए. 

राहुल वैद्य ने दिशा परमार को नेशनल टीवी पर किया प्रपोज, मां का आया रिएक्शन

जब वो तैयार होकर राघव ने उनको किरदार में देखकर तुरंत फाइनल कर दिया. राघव बोले की वो बहुत खुश हैं और उन्होंने बिलकुल सही आदमी को चुना हैं इस किरदार के लिए.शरद को उनके ट्रांसजेंडर रोल के लिए काफी सराहा जा रहा हैं उन्होंने अपनी जिंदगी में पहली बार एशिया रोल किया हैं. इस रोल ने उनके विचार भी बदले हैं. शरद का कहना हैं की उन्होंने खुद में यह महसूस किया हैं की यह फिल्म सबकी आंखें खोलने वाली हैं उन्होंने खुद ने इस फिल्म से अपनी विचार में परिवर्तन पाया. वो कहते हैं की उनके मन में भी ट्रांसजेंडर लोगो को लेकर पूर्वधारणाएं थी. 

उनका ये भी कहना हैं की सिर्फ वो इकलौते नहीं हैं बल्कि सारा समाज ट्रांसजेंडर लोगो के साथ गलत करता हैं उनको रेस्पेक्ट नहीं देता जो देनी चाहिए. यह फिल्म करने के बाद उनके मन में ट्रांस्जेंडर लोगो के लिए बहुत सम्मान हैं. पुरुष और स्त्री दोनों का मिश्रण हैं ट्रांसजेंडर इसलिए सबसे जयादा विकसित और सशक्त हैं. हम सबको उनका सम्मान करना चाहिए। लोग समानता की बात करते हैं पर शरद के हिसाब से वो लोग सबसे बेहतर हैं किसी पुरुष या स्त्री से. उनका भी योगदान दुनियां में होना चाहिए. जिन ट्रांस्जेंडरो को शरद जानते हैं उनसे उन्होंने बात की साथ ही राघव लॉरेंस जिन्होंने ओरिजिनल तमिल फिल्म कंचना में ये रोल निभाया हैं. उन्हें अक्षय कुमार और राघव से प्रेरणा मिली और उन्होंने ये रोल निभाया.

अन्य खबरें