सुशांत केस: जौहर, भंसाली, चोपड़ा, एकता समेत 7 को कोर्ट में हाजिर होने का नोटिस

Smart News Team, Last updated: 12/10/2020 08:18 PM IST
सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में साजिश के मामले में रिविजनवाद दाखिल मामले में फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली, करण जौहर, आदित्य चोपड़ा, साजिद नाडियावाला, भूषण कुमार, एकता कपूर व दिनेश विजयन समेत 7 हस्तियों को कोर्ट में हाजिर होने नोटिस भेजा है।
सुशांत केस: जौहर, भंसाली समेत 7 हस्तियों को होना होगा कोर्ट में हाजिर-पूरा मामला

 

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में अभी भी सीबीआई जांच कर रही हैं। वहीं दूसरी तरफ सोमवार को सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या की साजिश के आरोप में दर्ज रीविजनवाद मामले में एडीजे प्रथम ने फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली, करण जौहर, आदित्य चोपड़ा, साजिद नाडियावाला, भूषण कुमार, एकता कपूर व दिनेश विजयन समेत 7 आरोपियों पर नोटिस भेजने का आदेश दिया है। बता दें एडवोकेट सुधीर ओझा ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद सीजेएम कोर्ट में 17 जून को परिवाद दाखिल किया था। इसके बाद 7 सितंबर को आरोपी फिल्म अभिनेता सलमान खान के अधिवक्ता कोर्ट में उपस्थित हुए थे। इस कारण सलमान को छोड़ बाकि सभी को नोटिस भेजने का आदेश दिया गया है।

फिल्म निर्देशक संजयलीला भंसाली के अलावा करण जौहर, आदित्य चोपड़ा, साजिद नाडियावाला, भूषण कुमार, एकता कपूर व दिनेश विजयन को नोटिस भेजी जाएगी। 21 अक्टूबर को इस नोटिस में सभी को कोर्ट ने अदालत में खुद या अपने अधिवक्ता के माध्यम से हाजिर होने का समय दिया है। इसके लिए सभी फिल्म हस्तियों को सुबह साढ़े दस बजे उपस्थित रहने का आदेश दिया है। इसका मतलब ये है कि अब 21 अक्टूबर के इन फिल्म हस्तियों को अदालत में उपस्थित होना पड़ सकता है।

सुशांत केस: पड़ोसन डिंपल थवानी के खिलाफ रिया चक्रवर्ती ने लिखी CBI को चिट्ठी

इस मामले में 14 अगस्त को शिकायतकर्ता सुधीर ओझा ने सलमान व अन्य के खिलाफ जिला व सत्र न्यायालय में रीविजनवाद दाखिल की थी। इसके बाद जुलाई में एक बार फिर सीजेएम कोर्ट में परिवाद दाखिल किया गया था। हालांकि सीजेएम कोर्ट ने इस इसे खारिज करते हुए घटना को क्षेत्राधिकार से बाहर बताया था। अब इस आदेश के खिलाफ एडवोकेट सुधीर ओझा ने रीविजनवाद दाखिल किया था। उन्होंने एक केस का उदाहरण देते हुए कहा कि साजिश में शामिल आरोपियों के खिलाफ किसी भी न्यायालय में सुनवाई हो सकती है।

साथ ही ये भी साफ है कि अदालत में उपस्थित नहीं होने पर एकपक्षीय सुनवाई कर आदेश पारित किया जा सकता है। शिकायतकर्ता अधिवक्ता सुधीर कुमार ओझा ने कहा कि सभी आरोपियों के अधिवक्ताओं के उपस्थिति के बाद मामले में आगे की कार्यवाही हो सकेगी। बता दें सुशांत सिंह राजपूत ने कथिततौर पर 14 जून को सुसाइड किया था। इस मामले में सीबीआई के साथ साथ दो अन्य जांच एजेंसी भी जांच कर रही हैं।

अन्य खबरें