पूर्वांचल एक्‍सप्रेसवे के बाद अब UP को मिलेगी एम्स की सौगात, जल्द करेंगे PM मोदी उद्घाटन

Swati Gautam, Last updated: Wed, 17th Nov 2021, 1:53 PM IST
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द ही एक और बड़ी सौगात यूपी के नागरिकों को देने वाले हैं. गोरखपुर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के अस्पताल खुलने जा रहा है. पांच दिसंबर के बाद कभी भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अस्पताल का उद्घाटन कर सकते हैं. इस लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं.
पूर्वांचल एक्‍सप्रेसवे के बाद अब UP को मिलेगी एम्स की सौगात, जल्द करेंगे PM मोदी उद्घाटन. file photo

गोरखपुर. हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे का उद्घाटन कर उत्तर प्रदेश एक लोगों को बड़ी सौगात दी है मालूम हो कि पीएम मोदी जल्द ही एक और बड़ी सौगात यूपी के नागरिकों को देने वाले हैं. बता दें कि गोरखपुर में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के अस्पताल खुलने जा रहा है. पांच दिसंबर के बाद कभी भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अस्पताल का उद्घाटन कर सकते हैं. इस लेकर अभी से तैयारियां तेज हो गई हैं. एम्‍स के शुरू होने से पूर्वांचल के लोगों को बड़ी राहत मिलेगी क्योंकि अक्सर देखा जाता है कि गोरखपुर, बस्‍ती, आजमगढ़ मंडल ही नहीं बल्कि पश्चिमी बिहार से भी बड़ी संख्‍या में लोग इलाज कराने गोरखपुर आते हैं.

कैसी हैं तैयारियां

गोरखपुर में शुरू होने जा रहे एम्स में 16 ओटी के भवन तैयार हो गए हैं. वहीं आईपीडी में बेडों की संख्या बढ़ाते हुए दो नए ओटी (ऑपरेशन थिएटर) भी बना दिए गए हैं. इन दो आईटी में हर तरह के ऑपरेशन भी शुरू हो गए हैं जबकि अन्य 14 ओटी के भवन पूरी तरह से तैयार कर लिए गए हैं जिनमें केवल मशीनें आनी बाकी हैं. मशीनों के लिए एम्स ने ऑर्डर भी कर दिए हैं जो इस महीने में आ जाएंगी. वहीं हर रोज एक हजार से डेढ़ हजार मरीज ओपीडी में देखे जा रहे हैं. उम्मीद जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम से पहले सभी मशीनें एम्स को मिल जाएंगी.

PM मोदी आज करेंगे पूर्वांचल एक्‍सप्रेस वे का उद्घाटन, जगुआर, सुखोई और मिराज दिखाएंगे करतब

कैंसर मरीजों का भी होगा इलाज

कैंसर विभाग में ड्यूल एनर्जी रेडियोथेरेपी मशीन, ब्रेकीथेरेपी और सीटी सेम्यूलेटर मशीन भी इसी महीने आ जाएंगी. साथ ही अस्पताल में 300 बेड का वार्ड भी बन कर तैयार हो चुका है. तकरीबन दो बार केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव और संयुक्त सचिव एम्स का निरीक्षण कर तैयारियों का जायजा भी ले चुके हैं. राज्य में कैंसर विभाग में प्रतिदिन मरीज पहुंचते हैं लेकिन रेडियोथेरेपी के लिए उन्हें निजी अस्पतालों का रूख करना पड़ता है जबकि 450 बेड का अस्पताल अगले छह महीने में संचालित हो जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव और संयुक्त सचिव काम करा रही संस्था से वार्ता भी कर चुके हैं.

अन्य खबरें