छठ पूजा के मौके पर मंहगी हुई फल और सब्जियां

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Wed, 10th Nov 2021, 12:04 AM IST
  • गोरखपुर जिले की बाजारों में भी छठ पूजा के मौके पर फलों सब्जियों व जरूरी सामानों की कीमतों में भारी इजाफा देखने को मिल रही है. इस दौरान गन्ना बेचने वाले शख्स ने बढ़ती कीमतों का कारण बेलगाम महंगें हो रहे पेट्रोल-डीजल को बताया है.
प्रतीकात्मक फोटो

गोरखपुर. छठ महापर्व के मौके पर जहां एक तरफ लोगों में उमंग देखने को मिलती है वहीं दूसरी तरफ त्योहारी सीजन में उनके जेब पर भारी बोझ भी बढ़ती नजर आ रही है. दरअसल लोगों के रोजमर्रा की जरूरतों की चीजों जैसे फलों-सब्जियों की कीमतों में बाकी दिनों की अपेक्षा इस दौरान भारी इजाफा देखने को मिल रहा है. ठीक ऐसा ही नजारा उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के बाजारों में भी नजर आया. छठ पूजा में बढ़ती नींबू, गन्ना, नारियल की मांग के कारण इन सामानों की कीमतों में भारी इजाफा देखने मिली.

देशभर में मनाया जाने वाला छठ पूजा अपने आप में एक महापर्व है. इस पर्व की रौनक उत्तर प्रदेश, बिहार और झारखंड में बहुत बढ़ चढ़कर देखने को मिलती हैं. गोरखपुर के एक गन्ना विक्रेता बताते हैं कि डीज़ल-पेट्रोल के कीमतों में हो रही बेलगाम बढ़ोत्तरी का असर इस बार छठ पूजा के मौके पर बिकने वाले गन्ने पर दिखा जिसकी वजह ये इस बार ज्यादा महंगा हुआ है. मौजूदा समय की अपेक्षा पहले गन्ने सस्ते बिका करते थे मगर अभी एक जोड़ी गन्ना 80 रूपए में बिक रहा है. इसके आलावा इस महापर्व पर फलों और सब्जियों के कीमतों में तेजी से इजाफा हुआ है.

छठ पूजा पर कब-कब बैंक बंद ? पटना, रांची, गोरखपुर में छुट्टी की तारीख, शेड्यूल

बता दें कि नहाय-खाय के बाद आज मंगलवार 9 नवंबर को छठ पूजा का दूसरा दिन है खरना के दिन इस पूजा के लिए व्रत रखने वाली महिलाएं शाम को लकड़ी के चूल्हे पर गुड़ का खीर बनाकर प्रसाद के तौर पर खाएंगी. और इसके बाद व्रत की शुरूआत कर 36 घंटे तक बिना कुछ खाए पीए निराजल रहेंगी. पौराणिक कथाओं व मान्यताओं के अनुसार, खरना पूजा के साथ ही छठी मईया श्रद्धालुओं के घर में प्रवेश कर जाएंगी.

गौरतलब हो यूपी शासन की तरफ से छठ पूजा के तीसरे दिन यानी कार्तिक महिने की षष्ठी के दिन बुधवार 10 नवंबर को आधिकारिक छुट्टी का ऐलान किया गया है. सूबे के सीएम और गोरखनाथ मंदिर पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जिन जिलों में छठ पूजा बड़े स्तर पर मनाया जाता है, उन जिलों में जिलाधिकारी छठ पर स्थानीय स्तर पर अवकाश घोषित कर सकते हैं. इस दौरान उन्होंने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए आदेश दिया है कि सूबे के कई जिलों में कार्तिक मास में बड़े मेले भी आयोजित किए जाते हैं, इस पर भी जिलाधिकारियों द्वारा स्थानीय स्तर पर अवकाश घोषित किया जा सकता है.

अन्य खबरें